oxygen concentrators, ventilators, oxygen, COVID-19, US, Romania, Ireland, Hong Kong, japan, russia, India, News: दुनिया में इस वक्‍त कोरोना वायरस संक्रमण की महामारी के सबसे भयावह संकट से गुजर रहे भारत को मदद के लिए आज शुक्रवार को सुबह- सुबह, अमेरिका (US), रोमानिया (Romania), आयरलैंड (Ireland), हांगकांग (Hong Kong) से राहत सामग्री आ गई है. इसमें ऑक्‍सीजन कॉन्‍सन्‍ट्रेटर (oxygen concentrators), वेंटिलेटर्स (ventilators), दवाईयां, मास्‍क, मेडिकल उपकरण शामिल हैं.Also Read - व्लादिमीर पुतिन ने कहा- रूस को अलग-थलग करना असंभव होगा, दुनिया के कई देश खुद को नुकसान पहुंचाएंगे

यूएस सरकार की सहायता उड़ान दिल्ली में आई है और अगले सप्ताह में ऐसी और उड़ानों की उम्मीद है. कैलिफोर्निया के ट्रैविस एयर फोर्स बेस से अमेरिकी वायु सेना का विमान सी -17 ग्लोबमास्टर III आ गया है, दूसरा अमेरिकी वायु सेना का विमान रास्‍ते COVID-19 राहत आपूर्ति के साथ भारत के लिए मार्ग है.  अमेरिका ने भारत को ऑक्सीजन सपोर्ट, ऑक्सीजन कॉन्‍सन्‍ट्रेट, ऑक्सीजन प्रोडक्‍शन यूनिट, पीपीई, वैक्सीन-विनिर्माण आपूर्ति, रैपिड डायग्नोस्टिक टेस्ट, मेडिकल और पब्लिक हेल्‍थ में सहायता कर रहा है. Also Read - दिल्ली के प्रगति मैदान में पीएम मोदी ने उड़ाया ड्रोन। Watch Video

Also Read - यूक्रेन पर रूस का SAU मलका से 50km की दूरी से घातक प्रहार। Watch Video

सीबीआईसी ने एक बयान में कहा है, ”दिल्ली सीमा शुल्क ने अमेरिका से प्राप्त COVID सामग्री के तेजी से निकासी की सुविधा प्रदान की, जिसमें नियामकों के साथ 200 आकार डी ऑक्सीजन सिलेंडर, नियामकों के साथ 223 आकार एच ऑक्सीजन सिलेंडर, 210 पल्स ऑक्सीमीटर, 184,000 एबट रैपिड डायग्नोस्टिक टेस्ट किट और 84,000 एन -95 फेस मास्क शामिल हैं.

– 700 यूनिट ऑक्सीजन कॉन्‍सन्‍ट्रेटर और 365 वेंटिलेटर की खेप आयरलैंड आज भारत आई है. यह बात विदेश मंत्रालय (MEA)आधिकारिक प्रवक्ता के अरिंदम बागची ने बताई है.

विदेश मंत्रालय (MEA) के आधिकारिक प्रवक्ता अरिंदम बागची ने बताया कि 80 ऑक्सीजन सांद्रता और 75 ऑक्सीजन सिलेंडर की खेप के साथ उनके समर्थन के लिए हमारे यूरोपीय संघ के साथी रोमानिया का धन्यवाद. इससे पहले रोमानिया के दूतावास ने बताया था कि 80 ऑक्सीजन सांद्रक, 75 ऑक्सीजन सिलेंडर समेत अन्य चिकित्सा सामग्री लेकर एक विमान बुधवार को बुखारेस्ट से रवाना हुआ था, जो गुरुवार को रात में दिल्ली पहुंच जाएगा.


– हांगकांग से 300 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स और अन्य चिकित्सा उपकरण इंडिगो की उड़ान से दिल्ली में आए हैं.

– यूएस सरकार की सहायता उड़ान दिल्ली में आई है और अगले सप्ताह में ऐसी और उड़ानों की उम्मीद है. अमेरिका ने भारत को ऑक्सीजन सपोर्ट, ऑक्सीजन कॉन्‍सन्‍ट्रेट, ऑक्सीजन प्रोडक्‍शन यूनिट, पीपीई, वैक्सीन-विनिर्माण आपूर्ति, रैपिड डायग्नोस्टिक टेस्ट, मेडिकल और पब्लिक हेल्‍थ में सहायता कर रहा है. कैलिफोर्निया के ट्रैविस एयर फोर्स बेस से अमेरिकी वायु सेना का विमान सी -17 ग्लोबमास्टर III आ गया है, दूसरा अमेरिकी वायु सेना का विमान रास्‍ते COVID-19 राहत आपूर्ति के साथ भारत के लिए मार्ग है.

भारत में नई दिल्ली में स्थित अमेरिकी दूतावास ने एक बयान में कहा है, संयुक्त राज्य अमेरिका से कई आपातकालीन COVID19 राहत शिपमेंट भारत में आ चुके हैं! 70 वर्षों के सहयोग पर निर्माण, संयुक्त राज्य अमेरिका भारत के साथ खड़ा है, क्योंकि हम COVID-19 महामारी से एक साथ लड़ते हैं.

वहीं, भारत में जापान के राजदूत सातोशी सुजुकी ने कहा है कि जरूरत के इस समय में जापान भारत के साथ खड़ा है. हमने फैसला किया है कि हम 300 ऑक्सीजन जेनरेटर और 300 वेंटिलेटर देने के साथ इस प्रक्रिया को आगे बढ़ाएंगे.

ब्रिटेन से 120 ऑक्सीजन सांद्रकों की एक खेप भी भारत में पहुंच चुकी है. संयुक्त अरब अमीरत से सभी 157 वेंटिलेटर और 480 बीआईपीएपी मशीनों समेत अन्य सामग्री भारत पहुंच चुकी है.

40 से अधिक देशों ने मदद की प्रतिबद्धता जताई
विदेश सचिव हर्ष वर्द्धन श्रृ्ंगला ने गुरुवार को कहा कि 40 से अधिक देशों ने आक्सीजन संबंधी उपकरणों और महत्वपूर्ण दवाओं की आपूर्ति सहित भारत की आवश्यक चिकित्सा जरूरतों को लेकर प्रतिबद्धता व्यक्त की है ताकि कोरोना वायरस महामारी की अभूतपूर्व दूसरी लहर से निपटने में मदद मिल सके. विदेश सचिव ने कहा कि अमेरिका से तीन विशेष विमानों से बड़ी मात्रा में चिकित्सीय आपूर्तियां होनी वाली है, इनमें से दो विमान शुक्रवार को पहुंचेंगे. उन्होंने बताया कि अमेरिकी आपूर्ति में 2000 आक्सीजन सांद्रक, 500 आक्सीजन सिलेंडर एवं अन्य उपकरण शामिल हैं. रूस, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, आयरलैंड, बेल्जियम, रोमानिया, लक्समबर्ग, सिंगापुर, पुर्तगाल, स्वीडन, न्यूजीलैंड, कुवैत और मॉरीशस सहित कई देशों ने महामारी से लड़ने में मदद करने के लिए भारत को चिकित्सा सहायता की घोषणा की है.

एक दिन पहले रूस से भारत आई थी 20 टन सामग्री
कोरोना वायरस की दूसरी लहर से निपटने के बीच रूस से बृहस्पतिवार को सुबह भारत को 20 टन चिकित्सा सामग्रियों की आपूर्ति हुई, जिनमें आक्सीजन सांद्रक, वेंटीलेटर और दवा शामिल हैं. रूस की नागरिक आपदा सेवाओं की देखरेख करने वाली सरकारी एजेंसी ‘इमरकॉम’ द्वारा परिचालित दो परिवहन विमानों से चिकित्सा सामग्री दिल्ली लाई गईं. दो अति आवश्यक उड़ान नई दिल्‍ली पहुंची थीं, जिनमें 20 टन माल लाया गया.