Covid 19 Vaccination: कोरोना की वैक्सीन देश को मिल चुकी है. ऐसे में अब वैक्सीनेशन का काम शुरू किया जा रहा है. केंद्र सरकार ने शुरुआती दौर में 30 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाने की तैयारी पूरी कर ली है. नेहरू युवा केंद्र संगठनों के रिटायर्ड डॉक्टरों, नर्सों, होमगार्ड और सिविल डिफेंस इत्यादि पहली कतार के लोगों को केंद्र व राज्य सरकार द्वारा टीकाकरण किया जाएगा.Also Read - Big News! कोरोना वैक्सीन नहीं लेने वालों पर लगने जा रहा प्रतिबंध? सिनेमाघर, मेट्रो, बस इत्यादि में प्रवेश होगा निषेध

दिशानिर्देशों के मुताबिक प्रत्येक टीकाकरण स्थल पर कम से कम 3 कमरे होंगे. वहीं कई अन्य अधिकारियों की टीकाकरण केंद्रों पर तैनाती होगी. इस दौरान टीकाकरण अधिकारी, पुलिस होमगार्ड, नागरिक सुरक्षा, एनसीसी, एनएसएस और नेहरु युवा केंद्र संगठन के लोगों की तैनाती की जाएगी. ये सभी टीकाकरण संबंधी मामलों में मदद करेंगे और दिशानिर्देशों के पालन को सुनिश्चित करेंगे. Also Read - Covid-19 Update: देश में फिर बढ़ी कोविड-19 के एक्टिव मामलों की संख्या, लाख के करीब पहुंचा आंकड़ा

बता दें कि भारत सरकार का लक्ष्य है कि जून महीने तक 30 करोड़ लोगों का टीकाकरण करना है. महामारी से इन्हें सुरक्षा मिल सके इस कारण पहली कतार के लोगों को वैक्सीन दिया जाएगा. खासकर इनमें वो लोग शामिल होंगे जिनपर जोखिम काफी है. बता दें कि इस दौरान लोगों के दस्तावेजों को सत्यापित करने के लिए लिए टीकाकरण अधिकारी मौजूद रहेंगे. साथ ही अधिकारी 3 और 4 सहायक कर्मचारी भी होंगे जो भीड़ प्रबंधन का काम करेंगे. Also Read - Omicron in India: उत्तर प्रदेश सरकार ने कसी कमर, अब बस अड्डे और रेलवे स्टेशनों पर होगा RT-PCR टेस्ट

ये कर्मचारी सुनिश्चित करेंगे कि टीकाकरण के बाद हर प्राप्तकर्ता टीकाकरण केंद्र पर 30 मिनट बिताएगा. बता दें कि सहायक कर्मचारी इस दौरान टीकाकरण के साथ साथ टीम को सूचित करेंगे और शिक्षा व संचार संदेश और सहायता भी प्रदान करेंगे. बता दें कि इस दौरान हर टीकाकरण केंद्र पर 2 कमरों में सारे का किए जाएंगे. एक कमरे में लाभार्थियों के दस्तावेजों को सत्यापित व पहचान किया जाएगा. वहीं दूसरे कमरे में टीकाकरण किया जाएगा.