देश में 18 साल से अधिक उम्र के लोगों के एक मई से टीकाकरण को लेकर कई राज्यों में अनिश्चितता बनी हुई है. पहले ही महाराष्ट्र, राजस्थान, छत्तीसगढ़ सहित कई राज्य ऐसा करने में असमर्थता जता चुके हैं. अब पंजाब और गुजरात में एक मई से 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के टकाकरण को लेकर अनिश्चितता दिख रही है. दोनों राज्यों की सरकारों ने कहा है कि उनके पास कोरोना वायरस रोधी टीके की पर्याप्त खुराकें नहीं हैं.Also Read - भारत में Omicron के सब वेरिएंट BA.5 के एक और मरीज की पुष्टि, दक्षिण अफ्रीका से वडोदरा आया था शख्स

पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने बृहस्पतिवार को कहा, ‘‘हमें टीके की पर्याप्त खुराकें नहीं मिल रही हैं. इसलिए हमें समस्या का सामना करना पड़ रहा है. टीकाकरण के लिए हमारे पास पर्याप्त संख्या में कर्मी और व्यवस्था है.’’ Also Read - भगवंत मान ने करप्शन के आरोप में मंत्री को हटाया तो बोले केजरीवाल- 'आपकी कार्रवाई ने मेरी आखों में आंसू ला दिये'

यह पूछने पर कि क्या राज्य के स्वास्थ्य अधिकारी एक मई से 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का टीकाकरण करेंगे तो मंत्री ने कहा, ‘‘हमें लगता है कि हम एक मई से नहीं कर पाएंगे.’’ Also Read - सऊदी अरब में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामले, भारत समेत इन देशों में यात्रा करने पर लगा प्रतिबंध

राज्य सरकार ने 18 से 45 वर्ष तक के लोगों के टीकाकरण के लिए सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को 30 लाख कोविशील्ड खुराक के ऑर्डर दिए हैं.

सिद्धू ने कहा, ‘‘बुधवार को हमें दो लाख खुराकें मिलीं और उससे पहले हमें डेढ़ लाख खुराकें मिली थीं. लेकिन हमारे पास यह सूचना नहीं है कि आज और कल हमें कितनी खुराक मिलेंगी. अगर हमें टीके की कम से कम दस लाख खुराकें मिलती हैं तो हम इस कार्यक्रम को शुरू कर सकते हैं.’’

वहीं गुजरात सरकार ने कहा कि दवा कंपनियों से पर्याप्त संख्या में टीका मिलने पर ही वह तीसरे चरण का टीकाकरण अभियान शुरू करेगी. बहरहाल, राज्य में 18 वर्ष से 45 वर्ष तक के लोगों के टीकाकरण के लिए पंजीकरण की प्रक्रिया शुरू हो गई है.

राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने बृहस्पतिवार को जारी बयान में कहा, ‘‘केंद्र सरकार की घोषणा के मुताबिक बुधवार से कोविन पोर्टल पर 18 वर्ष से 45 वर्ष तक के लोगों के पंजीकरण की प्रक्रिया शुरू हो गई है.’’

इसमें बताया गया, ‘‘राज्य सरकार ने 25 अप्रैल को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया से कोविशील्ड की एक करोड़ खुराक और भारत बायोटेक से कोवैक्सीन की 50 लाख खुराक का ऑर्डर दिया था.’’

बयान में कहा गया है, ‘‘दवा कंपनियों से पर्याप्त संख्या में टीके की खुराक मिलते ही टीकाकरण की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी.’’ इससे एक मई से राज्य में टीकाकरण प्रक्रिया शुरू होने पर सवाल खड़े हो गए हैं.

(इनपुट-भाषा)