Coronavirus Vaccine Updates: देश में कोरोना का कहर जारी है. भारत में कोरोना वायरस (Covid-19) से 84 लाख से अधिक लोग अब तक संक्रमित हो चुके हैं और 1 लाख 25 हजार से ज्यादा की मौत हो चुकी है. कोरोना की चपेट में आम से लेकर खास सभी लोग आ रहे हैं. देश में कोरोना की वैक्सीन को लेकर भी की तरह से शोध चल रहे हैं. उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही भारत में कोरोना की वैक्सीन (Corona Vaccine) बनकर तैयार हो जाएगी. इस बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा है कि केंद्र का उद्देश्य अगस्त-सितंबर 2021 तक लगभग 30 करोड़ भारतीयों को COVID-19 वैक्सीन देना है. Also Read - Covid-19 Vaccine Latest Updates: Pfizer और BioNTech ने अमेरिका में कोविड-19 टीके के आपात इस्तेमाल की मांगी अनुमति

अब केंद्र सरकार कोरोना के टीके के वितरण और किन-किन लोगों को सबसे पहले दिया जाएगा, इसकी प्राथमिकताओं पर फोकस करने में जुट गई है. सरकार अब वैक्सीन के वितरण प्रक्रिया को अंतिम रूप देने और जिन लोगों को पहले टीका दिया जाएगा, वैसे लोगों की पहचान करने में जुट गई है. Also Read - Covid Vaccine: केजरीवाल बोले- कोविड-19 टीके के लिए कोई वीआईपी श्रेणी नहीं, कोरोना योद्धाओं और बुजुर्गों को मिलेगी प्राथमिकता

इन विवरणों पर विचार करने वाले विशेषज्ञ समूह ने एक खाका तैयार किया है. इसके मुताबिक, सबसे पहले 30 करोड़ लोगों को वैक्सीन दी जाएगी, जिनमें डॉक्टर और एमबीबीएस स्टूडेंट शामिल होंगे और यह टीका बिल्कुल मुफ्त होगा. इसके लिए चार कैटगरी बनाई गई है. वैक्सीन आने के बाद शुरुआती चरण में कुल 30 करोड़ प्राथमिकता वाले लाभार्थियों को वैक्सीन की खुराक दी जाएगी. Also Read - Coronavirus Vaccine Big News Update: भारतीय वैक्सीन का तीसरे चरण का ट्रायल शुरू, मंत्री अनिल विज ने सबसे पहले लगवाया टीका

सबसे पहले इन्हें दी जाएगी कोरोना की वैक्सीन

1. हेल्थकेयर पेशेवर (Healthcare Professionals): वैक्सीन आने पर सबसे पहले देश के एक करोड़ से अधिक हेल्थकेयर वर्कर्स को यह टीका दिया जाएगा. इनमें डॉक्टर, नर्स और आशा कार्यकर्ता के अलावा MBBS के छात्र भी शामिल होंगे.

2. फ्रंटलाइन वर्कर्स (Frontline workers): कोरोना के खिलाफ जंग में अग्रिम पंक्ति में खड़े 2 करोड़ फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन दी जाएगी. इस समूह में नगर निगमकर्मी, पुलिसकर्मी और सशस्त्र बलों से संबंधित कर्मी शामिल होंगे.

3. 50 साल से अधिक उम्र के लोग (Senior Citizens): 50 साल से अधिक उम्र के 26 करोड़ लोगों को वैक्सीन दी जाएगी. 50 साल से अधिक उम्र के लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी, क्योंकि उनमें कोरोना संक्रमण का खतरा सबसे ज्यादा है.

4. स्पेशल कैटेगरी के लोग (Special Category People): इस समूह में 50 से नीचे के लोग शामिल होंगे, हालांकि इसमें वैसे लोग प्राथमिकता में होंगे, जिन्हें पहले से कोई बीमारी हो.

उधर, न्यूज एजेंसी PTI ने एक सूत्र के हवाले से बताया कि टीकाकरण सूची के प्रत्येक व्यक्ति को उनके आधार कार्ड से जोड़ा जाएगा, ताकि उन्हें ट्रैक किया जा सके. हालांकि, अगर किसी व्यक्ति के पास आधार कार्ड नहीं है, तो भी वह सरकार द्वारा जारी किसी भी फोटो पहचान पत्र का उपयोग कर सकता है. बता दें कि भारत में अगले साल की शुरुआत में कोरोना की वैक्सीन आने की उम्मीद है. भारत बायोटेक कोरोना वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ को फरवरी तक लॉन्च कर सकती है. कंपनी का दावा है कि ‘भारत बायोटेक’ की ‘कोवैक्सीन’ भारत में उपलब्ध होने वाली पहली वैक्सीन होगी.