भारत में कोविड-19 के एक दिन में 54,069 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3,00,82,778 हो गई. वहीं, 1,321 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 3,91,981 हो गई और सक्रिय मामलों की कुल संख्या 6,27,057 हो गई है. अब जब कोरोना के मामले कम हो रहे, तब डब्‍ल्‍यूएचओ ने कोरोना के सबसे अधिक संक्रामक रूप डेल्‍टा वारियंट के 85 देशों में पाए जाने की बात कही है. बता दें कि मध्‍य प्रदेश के उज्‍जैन में डेल्‍टा के दो मरीजों में से एक की कल मौत हो गई है.Also Read - अगर आपको पास कोई विकल्प नहीं तो... पहला शतक जड़ने के बाद Deepak Hooda ने तोड़ी चुप्पी

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कहा कि दैनिक पॉजिटिविटी रेट 2.91% है, दैनिक पॉजिटिविटी रेट लगातार 17वें दिन 5% से कम है. Also Read - दीपक हुड्डा-संजू सैमसन ने रचा इतिहास, इंग्लैंड की जोड़ी को पछाड़कर नंबर-1

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के द्वारा आज गुरुवार को सुबह 8 बजे अपडेट आंकड़ों के मुताबिक, भारत में COVID19 के 54,069 नए मामले आने के बाद कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 3,00,82,778 हुई. 1,321 नई मौतों के बाद कुल मौतों की संख्या 3,91,981 हो गई है. 68,885 नए डिस्चार्ज के बाद कुल डिस्चार्ज की संख्या 2,90,63,740 हुई. देश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 6,27,057 है. Also Read - मुंबई: कुर्ला में आवासीय इमारत ढही, मृतकों की संख्या बढ़कर 19 हुई, पीएम ने दुख जताया

कुल केस (Total cases): 3,00,82,778
सक्रिय मामले (Active cases) : 6,27,057
कुल ठीक हुए (Total recoveries): 2,90,63,740
मौतों का आंकड़ा ( Death toll): 3,91,981
कुल वैक्‍सीनेशन (Total vaccination): 30,16,26,028

मंत्रालय की ओर से सुबह सात बजे जारी किए गए आंकडों के अनुसार, भारत में पिछले 24 घंटे में 64.89 लाख लोगों को कोविड-19 रोधी टीके लगाए गए. अभी तक टीके की कुल 30.16 करोड़ खुराक लोगों को दी जा चुकी है. नमूनों के संक्रमित आने की दैनिक दर 2.91 प्रतिशत है, जो पिछले 17 दिन से पांच प्रतिशत से कम बनी है. नमूनों के संक्रमित आने की साप्ताहिक दर भी कम होकर 3.04 प्रतिशत हो गई है. संक्रमण मुक्त हुए लोगों की संख्या लगातार 42वें दिन संक्रमण के नए मामलों से अधिक रही.

24 घंटे में संक्रमण से  1,321 लोगों की मौत हुई
आंकड़ों के अनुसार, देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण से जिन 1,321 लोगों की मौत हुई, उनमें से महाराष्ट्र के 508 लोग, तमिलनाडु के 166 लोग, केरल के 150 लोग और कर्नाटक के 123 लोग थे.

टॉप मौतों वाले राज्‍य
मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में संक्रमण से अभी तक कुल 3,91,981 लोगों की मौत हुई है, जिनमें से महाराष्ट्र के 1,19,303 लोग, कर्नाटक के 34,287 लोग, तमिलनाडु के 31,746 लोग, दिल्ली के 24,940 लोग, उत्तर प्रदेश के 22,336 लोग, पश्चिम बंगाल के 17,475 लोग, पंजाब के 15,923 लोग और छत्तीसगढ़ के 13,407 लोग थे.

18,59,469 नमूनों की जांच कल की गई
आंकड़ों के अनुसार, देश में अभी तक कुल 2,90,63,740 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं. कोविड-19 से मत्यु दर 1.30 प्रतिशत है. अभी तक कुल 39,78,32,667 नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच की गई है, जिनमें से 18,59,469 नमूनों की जांच बुधवार को की गई.

23 जून को तीन करोड़ के पार चले गए
देश में पिछले साल सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितंबर को 40 लाख से अधिक हो गई थी. वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितंबर को 50 लाख, 28 सितंबर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख, 20 नवम्‍बर को 90 लाख के पार हो गए. देश में 19 दिसम्बर को ये मामले एक करोड़ के पार, चार मई को दो करोड़ के पार और 23 जून को तीन करोड़ के पार चले गए थे.

डेल्टा के अन्य स्वरूपों के मुकाबले हावी होने की आशंका: WHO
विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने आगाह किया है कि अगर मौजूदा चलन जारी रहता है तो कोविड-19 के सबसे अधिक संक्रामक प्रकार डेल्टा के अन्य स्वरूपों के मुकाबले हावी होने की आशंका है. डब्ल्यूएचओ की यह चेतावनी ऐसे समय में आई है जब 85 देशों में इस स्वरूप के मिलने की पुष्टि हुई है और दुनिया के अन्य देशों में भी इसके मामले सामने आते जा रहे हैं.

डेल्टा के अन्य स्वरूपों के मुकाबले हावी होने की आशंका
डब्ल्यूएचओ की ओर से 22 जून को जारी कोविड-19 साप्ताहिक महामारी विज्ञान अपडेट में कहा गया कि वैश्विक स्तर पर, अल्फा स्वरूप 170 देशों, क्षेत्रों या इलाकों में मिला है, बीटा स्वरूप 119 देशों में, गामा स्वरूप 71 देशों में और डेल्टा स्वरूप का 85 देशों में पता चला है. अपडेट में कहा गया, डेल्टा, दुनिया भर के 85 देशों में मिला है, डब्ल्यूएचओ के अंतर्गत सभी क्षेत्रों के अन्य देशों में भी इसके मामले सामने आने का चलन जारी है, जिनमें से 11 क्षेत्रों में ये पिछले दो हफ्तों में सामने आए. डब्ल्यूएचओ ने कहा कि चार मौजूदा चिंताजनक स्वरूपों – अल्फा, बीटा, गामा और डेल्टा पर करीब से नजर रखी जा रही है, जो बड़े पैमाने पर फैले हुए हैं और डब्ल्यूएचओ के अंतर्गत आने वाले सभी क्षेत्रों में उनका पता चला है.