नई दिल्ली:  कोरोना वायरस के लगातार बढ़ रहे मामलों के बीच पूरी दुनिया भर के लोगों की नजर सिर्फ कोरोना वायरस वैक्सीन की रिसर्च पर ही है. सब बस इस बात का ही इंतजार कर रहे हैं कि आखिर कब कोविड-19 की वैक्सीन आएगी और इस संकट से राहत मिलेगी. इस बीच भारत भी इस दिशा में कदम आगे बढ़ा चुका है. आज कोरोना वैक्सीन को लेकर एक बड़ी खबर आई. दिल्ली स्थित एम्स में स्वदेशी वैक्सीन कोवैक्सीन(COVAXIN) का ह्यूमन ट्रायल शुरू हो गया है. Also Read - काम की खबर! अगले सप्ताह से भारतीय बाजारों में मिलेगा रूस का Sputnik V टीका, क्या होगी कीमत?

एम्स में कोवैक्सीन की पहली डोज दिल्ली के एक 30 वर्षीय व्यक्ति को दी गई. जानकारी के अनुसार जिस शख्स को यह वैक्सीन दी गई है उसे अस्पताल प्रशासन अपनी निगरानी में ही रखेगा और देखा जाएगा कि इस वैक्सीन से किस तरह के परिवर्तन आते हैं. Also Read - दिल्‍ली की ऑक्‍सीजन की जरूरत घटी, Deputy CM बोले- दूसरे राज्‍यों को दे सकते हैं सरप्‍लस

आपको बता दें कि पूरे देश में कुल 375 लोगों को कोवैक्सीन के ट्रायल के लिए चुना गया है जिसमें 100 लोगों को दिल्ली एम्स में ही वैक्सीन दी जाएगी जबकि बांकी लोगों को देश के अलग अलग मेडिकल संस्थानों में कोरोना वायरस की इस स्वदेशी वैक्सीन का ट्रायल किया जाएगा.

जानकारी के अनुसार कोवैक्सीन के ट्रायल के लिए दो चरण होंगे जिसमें पहले फेज में 18 साल से लेकर 55 साल की उम्र तक के लोंगों पर वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल होगा जबकि दूसरे फेज में 12 साल से लेकर 65 साल तक के लोगों पर ट्रायल किया जाएगा.

दुनिया भर में कोरोना वायरस वैक्सीन को लेकर शोधकार्य चल रह हैं. इस मामले पर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक आंकड़ा पेश करते हुए कहा है कि इस समय लगभग 150 वैक्सीन अपने विभिन्न चरण पर है जबकि 10 वैक्सीन अभी एडवांस स्टेज पर पहुंच गई हैं जिससे लोगों को वैक्सीन के जल्द आने की उम्मीद है.