नई दिल्ली: पुलिस ने शुक्रवार-शनिवार की दरम्यानी रात में कश्मीर में जमात-ए-इस्लामी जम्मू एंड कश्मीर पर कार्रवाई करते हुए इसके प्रमुख अब्दुल हमीद फैयाज सहित कम से कम 24 सदस्यों को हिरासत में ले लिया. अधिकारियों ने यहां यह जानकारी दी.पुलिस ने हिरासत में लेने की घटना को नियमित कार्रवाई बताया वहीं घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले अधिकारियों का कहना है कि यह अलगाववादी समूह तहरीक-ए-हुर्रियत से संबद्ध संगठन पर पहली बड़ी कार्रवाई है.

पुलवामा हमला: 2010-11 मॉडल की कार का हुआ था इस्तेमाल, मालिक का पता लगाने के करीब पहुंचीं एजेंसियां

जमात ने एक बयान जारी कर हिरासत में लिये जाने की निंदा की और कहा है, ‘…यह कदम इस क्षेत्र में और अनिश्चितता का राह प्रशस्त करने के लिए भली-भांति रची गई साजिश है. जमात ने दावा किया 22 और 23 फरवरी की दरम्यानी रात में पुलिस और अन्य एजेंसियों ने एक व्यापक गिरफ्तारी अभियान चलाया और घाटी में कई घरों पर छापेमारी की. उसके केन्द्रीय और जिला स्तर के कई नेताओं को गिरफ्तार किया गया जिसमें अमीर (प्रमुख) डॉ. अब्दुल हमीद फैयाज और वकील जाहिद अली (प्रवक्ता) शामिल हैं.

पुलवामा हमला: अमेरिका ने कहा- पाकिस्तान के खिलाफ भारत कुछ बड़ा करने की सोच रहा है

जमात के सदस्यों को दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग, पहलगाम, दिआलगाम, त्राल सहित विभिन्न स्थानों से हिरासत में लिया गया है. जमात ने उच्चतम न्यायालय में अनुच्छेद 35 ए पर एक याचिका की सुनवाई के समय छापेमारी को ‘संशयुक्त’ करार दिया. इसके अलावा पुलिस ने शुक्रवार रात जेकेएलएफ प्रमुख यासिन मलिक को भी हिरासत में लिया. जम्मू कश्मीर में अतिरिक्त बल तैनात किया गया है लेकिन किसी ने भी इस तरह की व्यापक तैनाती के बारे में कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. पुलवामा जिले में सीआरपीएफ के एक काफिले पर एक आतंकी हमले में 40 जवानों के शहीद होने के आठ दिनों बाद यह कार्रवाई सामने आई है.