पुडुचेरी: केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने केंद्र की भाजपा शासित नरेंद्र मोदी सरकार और उप राज्यपाल किरण बेदी पर राजकीय कार्यों में अवरोध पैदा करने के आरोप लगाए हैं. गौरतलब है कि केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा प्राप्त राजधानी दिल्ली के सीएम केजरीवाल के भी केंद्र और दिल्ली के उप राज्यपाल पर ये ही आरोप थे. राजधानी का विवाद तो इतना बढ़ गया था कि सुप्रीम कोर्ट को हस्तक्षेप करना पड़ा था तब जाकर मामले का पटाक्षेप हुआ हालांकि दिल्ली में अभी भी दोनों के बीच कोल्ड वार का दौर जारी है.

बजट में देरी की वजह केंद्र व उपराज्यपाल
पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने रविवार को अपने एक बयान में आरोप लगाते हुए कहा कि, उनकी सरकार को केंद्र और उपराज्यपाल द्वारा पैदा किए जा रहे अवरोधों की वजह से नियमित प्रशासनिक कामकाज करने में संघर्ष करना पड़ रहा है. नारायणसामी ने आरोप लगाया कि क्षेत्र का बजट तैयार करने और उसे उचित समय पर पेश करने में भी उन्हें कई अड़चनों का सामना करना पड़ता है. उन्होंने कहा कि पुडुचेरी विधानसभा में दो जुलाई को पेश बजट को मई में ही पेश हो जाना चाहिए था.

केंद्र में बीजेपी के रहते सरकार चलाना मुश्किल
मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र से समय पर धन नहीं मिलने और कैबिनेट से उपराज्यपाल के कार्यालय तक फाइलों की अनावश्यक आवाजाही की वजह से समय पर बजट पेश नहीं हो सका. नारायणसामी तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता के कामराज की जयंती के मौके पर कांग्रेस कार्यालय में आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे. कामराज को श्रद्धांजलि देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जब तक केंद्र में कांग्रेस की सरकार नहीं आती तब तक यहां सरकार चलाना पार्टी के लिए बहुत आसान नहीं होगा. (इनपुट एजेंसी )