नई दिल्‍ली: जम्‍मू-कश्‍मीर में सुरक्षा बलों और पुलिस ने गुरुवार को अलसुबह एक बड़े आतंकी हमले को नाकाम कर दिया है. सुरक्षा बलों ने यह आत्‍मघाती कार विस्‍फोट से बड़ी आतंकवादी वारदात से समय रहते पहले ही नाकाम कर दिया. इसमें एक कार में करीब 45 किलो आईईडी विस्‍फोट रखा था, जिसके सुरक्षा बलों को निशाना बनाया जाना था. लेकिन सुरक्षा बलों ने अदम्‍य साहस और सूझबूझ से पुलवामा जैसी दूसरी बड़ी आतंकी वारदात को नाकाम कर दिया है.Also Read - India ने Pakistan को फिर जमकर लगाई लताड़, कहा-ओसामा बिन लादेन भी तो पाक में ही मिला था, देखें VIDEO

कश्‍मीर जोन के आईजी विजय कुमार ने बताया कि पुलवामा पुलिस को पिछले एक हफ्ते से ख़बर मिल रही थी कि जैश-ए-मोहम्मद और हिजबुल मुजाहिदीन एक आत्मघाती हमला करने वाले हैं और एक सेंट्रो कार ली है और उसमें आईईडी भर कर वो किसी भी समय हमला कर सकते हैं. Also Read - J&K: Republic Day से एक द‍िन पहले आतंक‍ियों ने श्रीनगर में सुरक्षाकर्मियों पर ग्रेनेड हमला किया, 4 लोग घायल

Also Read - जम्मू-कश्मीर के शोपियां में सुरक्षाबलों की आतंकियों से मुठभेड़, दो को मार गिराया

यह हमला कितना भयंकर हो सकता था, इसका अंदाजा 45 किलो आईईडी विस्‍फोट को निष्क्रिय करने के बाद हुए ब्‍लास्‍ट को देखकर लगाया जा सकता है. कश्‍मीर के पुलवामा के राजपोरा इलाके के एक गांव आयनुगुंड गांव में एक आतंकी सैंट्रो कार छोड़कर तब भाग गया था, जब पुलिस ने चेतावनी फायर का उसे रोकने की कोशिश की थी.

सुरक्षाबलों ने बम निरोधक दस्‍ते की मदद से इसे आईईईडी विस्‍फोटक को कार समेत ही नष्‍ट कर दिया, जिससे कार के परखच्‍चे उड़ गए और पास के एक मकान को भी छतिग्रस्‍त हुआ है.

आईजी विजयकुमार ने बताया कि बुधवार शाम को पुलवामा पुलिस ने आर्मी, CRPF का नाका लगाया था, जिस गाड़ी की खबर थी जब वो नाके के पास आई तो एक वार्निंग फायर की और मिलि‍टेंट गाड़ी घुमाकर भाग गया. अगले नाके पर भी उस पर वार्निंग फायर की गई, उस जगह मिलीटेंट अंधेरा होने की वजह से गाड़ी को छोड़ कर भाग गया. ये किसी आतंकी सुरक्षा बल की गाड़ी को निशाना बनाता.

आज गुरुवार को अलसुबह सुबह पुलवामा जिले में रजपुरा रोड के पास एक सैंट्रो कार को जब्त किया गया, जिसमें करीब 40-45 किलो तक विस्फोटक था. सुबह बम स्क्वायड को बुलाकर IED को डिफ्यूज किया गया, जब निष्क्रिय किया गया तो कार में बम फटा और उसका धुआं 50 फीट तक ऊपर उछला. IED को डिफ्यूज करने दौरान आसपास के इलाके को खाली करवा दिया गया था.