मध्य प्रदेश के खरगोन जिले में गुरुवार रात रावण दहन के बाद दो गुटों के बीच हुए पथराव ने साम्प्रदायिक हिंसा का रूप ले लिया है। दोनों गुटों से जुड़े कुछ शरारती तत्वों द्वारा पथराव और आगजनी किए जाने के बाद जिला प्रशासन ने अनिश्चितकालीन कर्फ्यू लगा दिया है। इस सिलसिले में 50 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस के अनुसार, गुरुवार की रात रावण दहन के बाद एक खास समुदाय के लोगों ने भीड़ पर पथराव कर दिया, जिसके बाद इस घटना ने हिंसक रूप ले लिया। इसके बाद दोनों ओर से पथराव हुआ और कई स्थानों पर आगजनी भी हुई। हालात बिगड़ते देख प्रशासन को कर्फ्यू लगाना पड़ा। शहर में भारी संख्या में पुलिस बलों की तैनाती की गई है।

पुलिस अधीक्षक अमित सिंह ने शुक्रवार को आईएएनएस को बताया, “पथराव में पांच पुलिसकर्मियों सहित 10 लोग घायल हुए हैं और 50 लोगों को गिरफ्तार किया गया।”

उन्होंने आगे कहा, “यह हिंसा एक खास वर्ग के कुछ लोगों की शरारत का नतीजा है, जो अपने ही समुदाय के एक वर्ग को बदनाम करना चाहते थे। कर्फ्यू के चलते शुक्रवार को प्रस्तावित सभी धार्मिक आयोजनों पर भी रोक लगा दी गई है।”