मंगलुरु: कर्नानाटक की एक अदालत ने ‘साइनाइड’ देकर महिलाओं को मारने वाले कुख्यात सीरियल किलर मोहन को केरल के कसारगोड की 23 वर्षीय युवती की हत्या मामले में दोषी करार देते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. जबकि इससे पहले पांच मामलों में मोहन को मौत की सजा और तीन अन्य मामलों में उम्रकैद की सजा सुनाई गई है. Also Read - Coronavirus: लॉकडाउन से डरे पैदल निकले लोग, कुछ की चलते-चलते गई जान, कुछ की कुचलकर हुई मौत

बता दें कि मोहन पर हत्या के 20 मुकदमें दर्ज किए गए थे और 19वें मामले में उसे यह सजा सुनाई गई है. मोहन ने साइनाइड जहर देकर 20 महिलाओं की हत्या करने की बात कुबूल की थी. Also Read - हर तरफ उड़ी लॉकडाउन की धज्जियां, ये आपाधापी बिगाड़ न दें हालात, घर जाने के लिए ताक पर रखे नियम

अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायालय-6 की न्यायाधीश सैय्यदुननिसा ने सोमवार को मोहन को आजीवन कारावास की सजा सुनाते हुए 25 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया. Also Read - VIDEO: Lockdown के दौरान मस्जिद में नमाज अदा की, बाहर निकलते ही पड़े पुलिस के डंडे

न्यायाधीश ने कहा कि अन्य मामलों में सजा पूरी होने के बाद दोषी को ये सजा भुगतनी होगी. इससे पहले पांच मामलों में मोहन को मौत की सजा, जबकि तीन अन्य मामलों में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है.

इस मामले में पेश आरोप पत्र के अनुसार मोहन ने ‘कैमपको’ में कायर्रत युवती से दोस्ती की और शादी का वादा कर उसे तीन जनवरी 2006 को अपने साथ मैसूर की एक लॉज में ले गया. पहले के मामलों की तरह ही उसने अगली सुबह युवती से गहने उतारने के लिए कहा. इसके बाद दोनों बस स्टैंड पहुंचे और उसने लड़की को एक गोली खाने के लिए दी.

मोहन ने युवती को भरोसा दिलाया कि वह गोली गर्भनिरोधक है. उस गोली में साइनाइड था, जिससे लड़की की मौत हो गई. इसके बाद मोहन लॉज वापस लौटा और गहने ले कर फरार हो गया.

सीरियल किलर मोहन को 2009 में बंतवाल से गिरफ्तार किया गया था. मोहन ने साइनाइड जहर देकर 20 महिलाओं की हत्या करने की बात कुबूल की थी.