नई दिल्ली: अम्फान तूफ़ान तबाही मचा रहा है. भारी बारिश हो रही है. तेज हवाएं जहां से गुजरीं वहां सब चौपट हो गया है. पश्चिम बंगाल में अब तक करीब 12 लोगों की मौत की खबर है. कोलकाता में भी काफी तबाही देखने को मिली है. शहर का एक हिस्सा बिजली जाने से अँधेरे में डूब गया है. वहीं, पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि कोरोना वायरस से ज्यादा नुकसान इस तूफ़ान ने पहुंचाया है. काफी कुछ पूरी तरह तबाह हो गया है. सैकड़ों करोड़ रुपयों का नुकसान हुआ है. कोलकाता तो पूरी तरह तहस-नहस दिख रहा है. Also Read - इस राज्य में खुलेंगे मंदिर-मस्जिद, सीएम ने पूजा करने या नमाज़ पढ़ने के लिए रखी ये शर्त

ममता बनर्जी ने कहा कि शहर में लोगों का एक दूसरे से संपर्क टूट गया है. मैं इस प्राकृतिक आपदा के कारण बहुत दुखी हूं. यहाँ तक कि सचिवालय को बेहद नुकसान पहुंचा है. उन्होंने कहा कि मैं केंद्र सरकार से निवेदन करती हूं कि वह इसे सियासत की नज़र से न देखे. हमें मदद की ज़रूरत है. उन्होंने कहा कि लोग रिलीफ कैंप में ही रहें. अभी कई जगहें बिलकुल भी सुरक्षित नहीं हैं. तूफ़ान से कितना नुकसान हुआ है, इसका सही आंकलन 3-4 दिन बाद ही लग पायेगा. Also Read - Covid-19 in West Bengal: कोरोना ने 6 और लोगों की ली जान, मरने वालों की संख्या 217 हुई, 4 हजार से ज्यादा संक्रमित

बता दें कि बंगाल की खाड़ी से उठने वाले चक्रवाती अम्फान तूफान ने कहर ढाना शुरू कर दिया है. पश्चिम बंगाल के कई इलाकों में भारी बारिश हो रही है. कोलकाता में तेज हवाएं चल रही हैं. हवाओं के कारण शहर में कई जगहों पर बिजली गुल हो गई है. पश्चिम बंगाल में अब तक 5500 घरों को नुकसान पहुंच चुका है. जगह-जगह पेड़ उखड गए हैं. बिजली के खम्बे गिर गए हैं. ओडिशा और बंगाल से लाखों लोगों को पहले ही सुरक्षित स्थान पर ले जाया चुका है. बंगाल और ओडिशा को मिलाकर अब तक करीब 15 लोगों की मौत की खबर है. Also Read - Video: PM ने ममता के साथ हेलिकॉप्‍टर से किया तूफान प्रभावित पश्‍चिम बंगाल का हवाई सर्वे