Cyclonic Jawad News: बंगाल की खाड़ी में बन रहे एक चक्रवाती तूफान से इस सप्ताहांत दक्षिण बंगाल के कई जिलों में तेज हवाओं के साथ भारी से बहुत भारी बारिश होने की संभावना है. मौसम विभाग ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी. एक रक्षा अधकारी ने बताया कि तटरक्षक ने समुद्र में जानमाल की सुरक्षा के लिए कदम उठाने शुरू कर दिये हैं. उसने अपने जहाजों और विमान को मौसम के बारे में चेतावनी देने के काम में लगा दिया है. पश्चिम बंगाल सरकार ने कहा है कि उसने तटीय इलाकों में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल की दो टीम और राज्य आपदा मोचन बल की दो टीम तैनात करने का फैसला किया है. निचले इलाकों में रह रहे लोगों को हटाया जा रहा है.Also Read - नेताजी की जयंती पर बंगाल में हंगामा, माल्यार्पण को लेकर भिड़े TMC-BJP कार्यकर्ता; धक्का मुक्की के बाद हुई फायरिंग

मौसम विभाग ने कहा कि दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी में बन रहे निम्न वायु दाब के गहरे अवदाब में तब्दील होने और इसके बाद चक्रवाती तूफान का रूप धारण करने की संभावना है. इसके शनिवार को पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी, उत्तरी आंध्र प्रदेश तट-दक्षिण ओडिशा तट शनिवार सुबह पहुंचने की संभावना है. मौसम विभाग ने कहा कि इसके प्रभाव से शनिवार को पूर्वी मिदनापुर में एक या दो जगहों पर भारी से बहुत भारी बारिश होने, जबकि पश्चिमी मिदनापुर,झारग्राम और हावड़ा में भारी बारिश होने की संभावना है. Also Read - Chandrababu Naidu Covid-19 Positive: कोरोना की चपेट में आए चंद्रबाबू नायडू, खुद को किया आइसोलेट

आंध्र प्रदेश के तीन तटीय जिलों में तूफान ‘जवाद’ को लेकर चेतावनी जारी Also Read - गणतंत्र दिवस परेड से बंगाल की झांकी हटाई गई, केंद्र के फैसले से ‘स्तब्ध’ ममता बनर्जी ने PM मोदी को लिखा पत्र

आंध्र प्रदेश सरकार ने तीन उत्तरी तटीय जिलों में आधिकारियों को हाई अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए हैं, क्योंकि चक्रवाती तूफान ‘जवाद’ के शनिवार को बंगाल की खाड़ी के तट से टकराने की आशंका है. मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने बृहस्पतिवार को श्रीकाकुलम, विजयनगरम और विशाखापत्तनम के जिलाधिकारियों से बात की और तूफान के मद्देनजर उन्हें सभी एहतियाती कदम उठाने का निर्देश दिया.

मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक विज्ञप्ति के मुताबिक मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारियों से कहा कि जहां भी जरूरत हो राहत शिविर लगाने की व्यवस्था करें. जगन मोहन रेड्डी ने जिलाधिकारियों से कहा, ‘‘सुनिश्चित करें कि चक्रवाती तूफान के कारण किसी को कोई समस्या न हो. सतर्क रहें, खासकर निचले इलाकों और सर्वाधिक खतरे वाले क्षेत्रों के मामले में.’’

इस बीच, राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के आयुक्त के कन्ना बाबू ने कहा कि शुक्रवार रात से बंगाल की खाड़ी के तट पर 45-65 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से हवाएं चलने की संभावना है और शनिवार सुबह तक इन हवाओं की रफ्तार 70-90 किलोमीटर प्रति घंटे तक पहुंच सकती है. चक्रवाती तूफान के परिणामस्वरूप उत्तरी तटीय जिलों में विभिन्न स्थानों पर मध्यम से बहुत भारी बारिश होने की संभावना है.

(इनपुट भाषा)