Cyclone ‘Jawad’: चक्रवाती तूफान ‘जवाद’ कमजोर पड़ गया है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने कहा कि चक्रवाती तूफान ‘जवाद’ को कमजोर होकर एक गहरे दबाव में बदल गया है. पुरी पहुंचने तक इसके और कमजोर पड़ने की संभावना है. यह आंध्र प्रदेश, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के लिए बड़ी राहत की बात है. मौसम कार्यालय ने एक बयान में कहा कि चक्रवाती तूफान कमजोर होकर एक गहरे दबाव में बदल गया है और यह शाम 5:30 बजे पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर, विशाखापत्तनम, आंध्र प्रदेश से लगभग 180 किमी पूर्व-दक्षिण पूर्व में और पुरी, ओडिशा से 330 किमी दक्षिण-दक्षिण-पश्चिम में केंद्रित था.Also Read - Cyclone Jawad: निचले इलाकों से लोगों को निकालने में जुटी ओडिशा सरकार, पुरी जिले में टकरा सकता है तूफान

इसने कहा, ‘‘इसके उत्तर-उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ने तथा कल सुबह तक इसके और कमजोर होकर दबाव में बदलने की संभावना है. इसके कल दोपहर के आसपास पुरी के निकट पहुंचने की संभावना है. इसके बाद, इसके उत्तर-उत्तर-पूर्व की ओर ओडिशा के तट के साथ पश्चिम बंगाल के तट की ओर बढ़ने तथा अगले 24 घंटों के दौरान इसके और कमजोर होकर निम्न दबाव के क्षेत्र में बदलने की संभावना है.’’ सऊदी अरब ने चक्रवात का नाम ‘जवाद’ रखा है, जिसका मतलब उदार या दयालु से है. Also Read - चक्रवाती तूफान 'जवाद' से बंगाल में भारी बारिश की संभावना, आंध्र प्रदेश के तीन तटीय जिलों में चेतावनी जारी

गत 30 नवंबर को अंडमान सागर के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र विकसित हुआ था. आईएमडी ने कहा कि यह दो दिसंबर को एक दबाव के क्षेत्र में और शुक्रवार की सुबह गहरे दबाव के क्षेत्र में बदल गया तथा शुक्रवार दोपहर यह चक्रवात में तब्दील हो गया. आईएमडी ने रविवार को पश्चिम बंगाल में गंगा के तटों से लगते क्षेत्रों और उत्तरी ओडिशा में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा तथा रविवार और सोमवार को असम, मेघालय और त्रिपुरा में अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा का पूर्वानुमान व्यक्त किया है. आईएमडी ने रविवार तक बंगाल की मध्य और उत्तरी खाड़ी में नौवहन और मछुआरों के लिए समुद्री स्थिति प्रतिकूल रहेगी. Also Read - Indian Railways/IRCTC Train Cancelled: चक्रवाती तूफान Jawad के चलते रद्द हुईं कई ट्रेनें, परेशानी से बचने के लिए यहां देखें पूरी लिस्ट