Cyclone Nisarga: महाराष्ट्र सरकार ने चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ (Cyclone Nisarga) से मद्देनजर मुंबई और आस पास के जिलों के लिए सोमवार को अलर्ट जारी किया. तूफान के तीन जून को राज्य के तट पर पहुंचने की आशंका है. चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ को देखते हुए खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका जायजा लिया है. मंगलवार को पीएम मोदी ने ट्वीट कर जानकारी दी. Also Read - Lockdown in Bihar: नहीं रुक रहा कोरोना का प्रसार, बिहार में 16 से 31 जुलाई तक फिर लगेगा कंपलीट लॉकडाउन

तूफान को लेकर पीएम मोदी ने ट्वीट कर लिखा- “भारत के पश्चिमी तट के कुछ हिस्सों में चक्रवात की स्थिति के मद्देनजर स्थिति का जायजा लिया. मैं सभी की कुशलता के लिए प्रार्थना करता हूं. लोगों से हर संभव सावधानी और सुरक्षा उपाय बरतने का आग्रह भी करता हूं.” एक अधिकारी ने बताया कि चक्रवात के पहुंचने से पहले गुजरात तट के नजदीक स्थित गांवों से 20,000 लोगों को निकाला जाएगा. Also Read - बाल ठाकरे के स्मारक के स्थान पर अस्पताल बनना चाहिए: AIMIM सांसद

महाराष्ट्र और गुजरात की ओर बढ़ रहे तूफान ‘निसर्ग’ के मद्देनजर एनडीआरएफ ने दोनों राज्यों के तटीय जिलों में अपनी 33 टीमें तैनात की हैं. यह जानकारी बल के प्रमुख ने मंगलवार को दी. राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के महानिदेशक एस एन प्रधान ने एक वीडियो संदेश में बताया, ‘‘गुजरात और महाराष्ट्र में बल की क्रमश: 11 और 10 टीमें हैं और उन्हें तटीय जिलों में तैनात किया गया है.’’

उन्होंने बताया कि गुजरात के अनुरोध पर पंजाब से और पांच टीमों को विमान के जरिये पहुंचाया जा रहा है. प्रधान ने बताया कि गुजरात में एनडीआरएफ की कुल 17 टीमें होंगी जिनमें दो टीमों को रिजर्व रखा गया है जबकि पड़ोसी महाराष्ट्र में छह रिजर्व टीमों सहित बल की 16 टीमें होंगी.’’ उन्होंने कहा, ‘‘ इसके साथ ही इन दोनों राज्यों में कुल 33 टीमों को तैनात किया जा रहा है.’’ उल्लेखनीय है कि एनडीआरएफ की एक टीम में करीब 45 जवान होते हैं और वे पेड़ तथा खंभे काटने की मशीन, संचार उपकरण, छोटी नौकाओं और मूलभूत चिकित्सा शाखा से लैस होती है.

पीएम के अलावा केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने भी पश्चिमी समुद्री तट की ओर बढ़ रहे चक्रवाती तूफान के मद्देनजर गुजरात और महाराष्ट्र में की जा रही तैयारियों का सोमवार को जायजा लिया. इसके साथ ही उन्होंने दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों को किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए हर संभव केंद्रीय मदद का भरोसा दिया.

वहीं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया कि केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से वीडियो कॉन्फ्रेंसे के जरिए बात की और किसी भी स्थिति से निपटने में राज्य की तैयारियों का जायजा लिया. अधिकारियों ने बताया कि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की दस इकाइयों को संवेदनशील जिलों में तैनात गया है, जबकि छह अन्य को तैयार रहने को कहा गया है.

उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं कि ऐसे वक्त में बिजली आपूर्ति बिल्कुल बाधित नहीं हो जब राज्य कोरोना वायरस संकट से जूझ रहा है और विभिन्न अस्पतालों में हजारों मरीजों का इलाज चल रहा है. तटीय पालघर और रायगढ़ जिलों में स्थित रासायनिक और परमाणु ऊर्जा संयंत्रों की सुरक्षा के लिए पर्याप्त एहतियात बरती जा रही है. ठाकरे ने एक बयान में कहा कि अरब सागर में विकसित हो रहे चक्रवाती तूफान के मद्देनजर मुंबई शहर, मुंबई उपनगरीय जिले, ठाणे, पालघर, रायगढ़, रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग जिलों में अलर्ट जारी किया गया है.