नई दिल्ली/अहमदाबाद. मौसम विभाग ने गुरुवार को कहा कि चक्रवात ‘वायु’ ने अपना रास्ता बदल लिया है और अब इसके गुजरात तट से टकराने की संभावना नहीं है. पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सचिव एम राजीवन ने कहा, ‘‘इसके (चक्रवात वायु के) तट से टकराने की संभावना नहीं है. यह केवल तट के किनारे से गुजरेगा. इसके मार्ग में हल्का बदलाव आया है. लेकिन, इसका प्रभाव वहां होगा, तेज हवाएं चलेंगी और भारी बारिश होगी.’’ मौसम विज्ञान विभाग के अतिरिक्त महानिदेशक देवेंद्र प्रधान ने बताया कि चक्रवात समुद्र में रहेगा और गुजरात तट के किनारे-किनारे गुजरेगा.

देवेंद्र प्रधान ने कहा, ‘‘इसने थोड़ा सा पश्चिम की तरफ रुख कर लिया है. यह गुजरात तट के किनारे-किनारे गुजरेगा.’’ चक्रवात चेतावनी प्रभाग ने सुबह साढ़े आठ बजे के बुलेटिन में कहा, ‘‘काफी संभावना है कि यह कुछ समय तक उत्तर-उत्तर पश्चिमी दिशा की तरफ चलेगा और फिर उत्तर पश्चिमी दिशा में सौराष्ट्र तट के किनारे से गुजरेगा जिससे गिर सोमनाथ, दीव, जूनागढ़, पोरबंदर और देवभूमि द्वारका प्रभावित होंगे . इस दौरान 135 से 145 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी जो 13 जून को दोपहर बाद 160 किलोमीटर प्रति घंटे रफ्तार की हवाओं में तब्दील हो सकती हैं.’’

इस बीच ‘वायु’ चक्रवात की वजह से चलने वाली तेज हवाओं का असर गुजरात के कई जिलों में साफ तौर पर दिख रहा है. यहां के प्रसिद्ध सोमनाथ मंदिर के परिसर में लगे टिन-शेड को तूफान की वजह से नुकसान पहुंचा है. मंदिर के आसपास के इलाकों में लगी दुकानें के छप्पर उड़ गए हैं. इधर, गुजरात के पोरबंदर में भी ‘वायु’ चक्रवात को लेकर सुरक्षा के व्यापक कदम उठाए गए हैं. एनडीआरएफ की टीम अरब सागर की स्थिति पर लगातार नजर बनाए हुए है. पोरबंदर में एनडीआरएफ की छह टीमों को तैनात किया गया है. मौसम विभाग की इस सूचना- ‘वायु’ चक्रवात गुजरात के तटों से होकर नहीं गुजरेगा, इसकी वजह से चलने वाली तेज हवाओं और भारी बारिश होगी- के बाद संभावित स्थिति से निपटने के लिए एनडीआरएफ की टीम के सदस्य तैनात हैं.

इस बीच महाराष्ट्र के तटीय इलाकों में भी ‘वायु’ तूफान का असर देखने को मिल रहा है. मौसम विभाग के वैज्ञानिकों की चेतावनी के बाद प्रदेश की राजधानी मुंबई के विभिन्न समुद्री तटों को चक्रवाती तूफान के मद्देनजर आम लोगों के लिए बंद कर दिया गया है. आम लोगों और मछुआरों को समुद्र से दूर रहने के निर्देश दिए गए हैं. विभाग ने कहा कि ‘वायु’ चक्रवात के कारण महाराष्ट्र के समुद्र तटीय इलाकों में तेज हवाओं के साथ-साथ भारी बारिश होने का अनुमान है.

(इनपुट – एजेंसी)