चेन्नई: भारत के दक्षिण-पश्चिम में और बंगाल की खाड़ी से सटे दक्षिण-पूर्व में कम दबाव वाला क्षेत्र एक डिप्रेशन में बदल गया है. क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र ने सोमवार को यह जानकारी दी. यह डिप्रेशन फिलहाल पुदुचेरी से लगभग 550 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व और चेन्नई से 590 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में स्थित है. Also Read - राहुल गांधी Madurai में जल्लीकट्टू देखते आए नजर, टि्वटर पर ट्रेंड हुए गोबैक राहुल, वेलकम नड्डाजी

मौसम विभाग ने कहा, “इसके अगले 24 घंटों के दौरान एक चक्रवाती तूफान (निवार) में तब्दील होने की संभावना है. इसके 25 नवंबर की दोपहर के आसपास उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और कराईकल और ममल्लापुरम के बीच तमिलनाडु और पुदुचेरी के तटों को पार करने की संभावना है.” Also Read - किसानों का आंदोलन जारी, तमिलनाडु में भी कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव की मांग

मौसम विभाग ने इस दौरान हवा 100 से 110 किलोमीटर प्रति घंटे या फिर 120 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चलने की संभावना भी जताई है. चेन्नई, कडलूर, नागपट्टिनम, एन्नोर, कट्टुपल्ली, पुदुचेरी और कराईकल बंदरगाहों पर खासतौर पर सावधानी बरतने को भी कहा गया है. Also Read - साल के आखिरी Man Ki Baat ' में PM Modi ने कीं ढेर सारी बातें...युवाओं की 'Can Do-Will Do' को सराहा,

मौसम विभाग के अनुसार, मंगलवार को तमिलनाडु के जिले नागापट्टिनम, तंजावुर, तिरुवरुर, अरियालुर, मयिलादुथुराई, चेन्नई, तिरुवल्लुर, चेंगलपट्टू, कांचीपुरम, तिरुचिरापल्ली, पेरम्बलुर, पुदुकोट्टई, कुड्डलोर, विल्लुपुरम, वेल्लोर, रानीपेट, तिरुवन्नमलाई और कल्लाकुरिची और पुदुचेरी के कराईकल, तटीय आंध्र प्रदेश एवं रायलसीमा में भारी बारिश होने की संभावना है.

इस बीच तमिलनाडु के राजस्व मंत्री आरबी उदयकुमार ने मीडिया को बताया कि चक्रवात से निपटने के लिए आवश्यक प्रबंध किए गए हैं. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की छह टीमों को कुड्डलोर भेजा गया है.