फोटो क्रेडिट-जी न्यूज़

दादरी हत्याकांड को लेकर लगातार हो रही बयानबाजी पर अब कानून ने भी अपना शिकंजा कसना शुरू कर दिया है।  इसी कड़ी में केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा और भाजपा के विवादास्पद विधायक संगीत सोम के लिए मुश्किल पैदा होती दिख रही है क्योंकि उत्तर प्रदेश पुलिस ने बिसहड़ा गांव में निषेधाज्ञा का कथित तौर पर उल्लंघन करने को लेकर दोनों के खिलाफ कार्रवाई की पैरवी की है। इसी गांव में गोमांस खाने की अफवाह के बाद अखलाक नामक व्यक्ति की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी।

गौतमबुद्ध नगर के जिला अधिकारी के पास दायर रिपोर्ट में भाजपा के इन दोनों नेताओं तथा बसपा नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की अनुशंसा की गई है। वहीं राहुल गांधी और असदुद्दीन औवेसी के खिलाफ कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई गई है। यह भी पढ़े-असदुद्दीन ओवैसी दादरी मामले को संयुक्त राष्ट्र ले जाने के खिलाफ

पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) संजय कुमार यादव ने कहा कि तीनों नेताओं के खिलाफ रिपोर्ट दायर की गई है जिन्होंने इस क्षेत्र में निषेधाज्ञा के बावजूद ग्रामीणों को संबोधित किया। नेताओं को जनता को संबोधित करने नहीं, सिर्फ पीड़ित परिवार से मुलाकात की अनुमति दी गई थी। यह भी पढ़े-दादरी कांड : प्रधानमंत्री की चुप्पी पर आप ने साधा निशाना

सोम ने बीते रविवार को कहा था कि अगर निर्दोष लोगों को फंसाया गया तो वे मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम हैं। केंद्रीय मंत्री शर्मा गौतमबुद्ध नगर से लोकसभा सदस्य हैं। उन्होंने पीड़ित परिवार के घर का दौरा किया था तथा इस घटना को लेकर राजनीतिक विरोधियों पर हमले करते रहे हैं। यह भी पढ़े-दादरी घटना पर बोले अखिलेश, अफवाहों से बहुत कुछ होता है

जिला अधिकारी एनपी सिंह ने कल कहा था कि वह इसको लेकर कानूनी राय ले रहे हैं कि सोम के बयान को लेकर क्या कार्रवाई की जा सकती है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी गांव का दौरा किया था, लेकिन किसी सभा को संबोधित नहीं किया था। ऐसे में उनके खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई की अनुशंसा नहीं की गई है। यादव ने कहा कि आरपीआई नेता रामदास अठावले को स्थिति को देखते हुए आज गांव में जाने की इजाजत नहीं दी गई। यह भी पढ़े-दादरी कांड: बिसेहड़ा गांव के बाहर रोके गए CM केजरीवाल

केद्रीय मंत्री महेश शर्मा और विधायक संगीत सोम पर धारा 144 तोड़ने की शिकायत जारचा थाने में दर्ज की गई है। डीएम के जांच करने के बाद आदेश देने पर शिकायत दर्ज हुई है। सिद्दीकी अपने काफिले के साथ बिसाहड़ा गांव पीड़ित परिवार से मिलने गए थे। यह भी पढ़े-मोदी देश के नए संत: आजम खां