हाल ही में महाराष्ट्र में एक ऐसी घटना घटी, जिसे देखकर अच्छे-अच्छों के होश उड़ गए। ‘माउंटैन मैन’ दशरथ मांझी की ही तरह एक शख्स ने अपनी पत्नी के प्यार में कुछ ऐसा कर दिखाया, जिसे करना लगभग नामुमकिन है। ये घटना तब घटी, जब BA पास मजदूर बापूराव की पत्नी को बेईज्ज़त किया गया। कुएं के मालिक ने एक दिन पत्नी को पानी नहीं भरने दिया, जिसकी वजह से बापुराव को । BA पास मजदूर बापूराव को पत्नी की बेइज्जती बर्दाश्त नहीं हुई और उसने खुद कुआं खोदने की जिद ठान ली। और उसने ये काम केवल ठाना ही नहीं, बल्कि उसे करके दिखाया।

जी हाँ, बापुराव ने दिन-रात एक कर 40 दिन में जमीन से पानी निकाला और अब उस कुएं से सूखे की मार झेल रहे इलाके के दलितों के साथ ऊंची जाति के लोग भी इससे प्यास बुझा रहे हैं। यह वाकया वाशिम का है, जहाँ बापुराव अपने परिवार के साथ रहते हैं। बापुराव ने रोजाना 6 घंटे खुदाई की और जिले के कलाम्बेश्वर गांव के लोगों को सूखे के दिनों में पानी की पूर्ती करवाई। ये भी पढ़ें: ग्रेटर नोएडा में पुलिस ने दलित दंपती को निर्वस्त्र कर पीटा

well03_1462695628

हालांकि लोगों ने उनके इस काम का बहुत मज़ाक उड़ाया, पर उन्होंने हार नहीं मानी और ये नामुमकिन काम कर दिखाया। बापुराव के इस कदम से दलितों को पानी के लिए मीलों दूर नहीं जाने पड़ेगा और न ही जिल्लत सहनी होगी।