रत्नागिरी/मुंबईः महाराष्ट्र में एलोर-शिरगांव गांव के निकट मंगलवार देर रात एक छोटा बांध टूटने से दो लोगों की मौत हो गई और 25 लोग लापता हो गए. अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी. पुलिस के अनुसार, भारी बारिश के कारण तिवेर बांध मंगलवार रात लगभग आठ बजे ऊपर को बहने लगा और कुछ समय बाद ही इसके टूटने की खबर आ गई. इसके बाद कम से कम सात गावों में बाढ़ आ गई, दर्जनभर घर बह गए और लगभग दो दर्जन लोगों के लापता होने की खबर है.Also Read - Maharashtra Rains: महाराष्ट्र में बारिश का कहर, दो दिनों में 129 लोगों की मौत, कई लोग मलबे में दबे

Also Read - भारी बारिश के कारण कोंकण रेल मार्ग पर ट्रेन सेवाएं प्रभावित

पुलिस को पानी से अब तक दो शव मिले हैं और शेष लोगों की तलाश में अभियान जारी है. पुणे और सिंधुदुर्ग से अग्निशमन और राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की टीमों के अलावा आस-पास के क्षेत्रों के स्वयंसेवी लोगों ने युद्ध स्तर पर बचाव अभियान शुरू कर दिया है. शीर्ष पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी घटना स्थल को रवाना हो गए हैं. यह बांध साल 2000 में बना था और क्षेत्र के लोगों का दावा है कि उन्होंने दो साल पहले जिला प्रशासन को इसमें पानी रिसने की सूचना दी थी लेकिन इसकी कोई मरम्मत नहीं हुई. Also Read - Maharashtra Rain: मुंबई में हो रही आफत की बारिश ने आज 25 की ले ली जान, देखें जलप्रलय की तस्वीरें

महाराष्ट्र के ज्यादातर हिस्से में पिछले पांच दिनों से मूसलाधार बारिश हो रही है. इस कारण मुंबई में जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है. बारिश के कारण वित्तीय राजधानी जगह-जगह जलमग्न है और शहर में दीवार गिरने की एक घटना में 22 लोगों की जान चली गई. अधिकारियों ने बताया कि शेष महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में बारिश से संबंधित घटनाओं में 14 अन्य लोगों की मौत हो गई. रविवार से हो रही भारी बारिश के कारण मुंबई में रेल, हवाई और सड़क यातायात भी बुरी तरह प्रभावित हुआ. कई ट्रेनों और विमानों को रद्द करना पड़ा. मंगलवार को प्रदेश भर में बारिश से संबंधित घटनाओं में कम से कम 40 लोगों की मौत हो गई.