नई दिल्ली: आज देश विनायक दामोदर सावरकर की जयंती मना रहा है. इस मौके पर पीएम नरेंद्र मोदी सहित कई बड़े राजनेताओं ने उन्हें याद किया. विनायक सावरकर की जयंति के अवसर पर पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर अपने मन की बात की क्लिप को पोस्ट किया है. इसमें उन्होंने देशवासियों के सामने उनके साहस और उनकी निर्भीकता का उदाहरण पेश किया है.Also Read - Kevin Pietersen को मिला PM Modi का लेटर, गदगद होकर भारत को बताया 'वैश्विक शक्ति'

पीएम मोदी ने कहा कि वीर सावरकर ही वह पहले व्यक्ति थे जिन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ 1857 की लड़ाई में भारतीयो के संघर्ष को अंग्रेजों के खिलाफ पहली लड़ाई कहने की हिम्मत दिखाई थी. मन की बात में पीएम मोदी ने कहा कि यह मई का महीना बहुत ही खास है. यही वह महीना था जब भारत देश के वीर जवानों ने अंग्रेजों को अपनी ताकत दिखाई थी. उन्होंने कहा कि यह देश के लिए काफी दुर्भाग्य की बात है कि उनके इस साहस को हमेशा विद्रोह के नजरिए से देखा गया. Also Read - दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में NCC रैली में पहुंचे पीएम मोदी, बेस्ट कैडेट्स को सम्मानित भी किया

Also Read - Rahul Gandhi का Twitter पर आरोप-मेरे फॉलोअर्स घट रहे हैं, किसी दबाव में काम कर रहे? मिला ये जवाब

पीएम ने कहा कि यह सोच स्वाभाविक रूप से हमारे स्वाभिमान को ठेस पहुंचाने वाली है. पीएम मोदी ने वीर सावरकर के योगदान को याद करते हुए कहा कि यह वीर दामोदर सावरकर ही थे जिन्होंने यह कहने कि हिम्मत दिखाई कि जो कुछ भी हुआ वह विद्रोह नहीं बल्कि अंग्रेजों को भारत से उखाड़ फेंकने लिए आजादी की पहली लड़ाई थी.

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने भी वीर सावरकर को याद किया. आपको बता दें कि दामोदर सावरकर का जन्म महाराष्ट्र के नासिक में 28 मई 1883 को हुआ था. इनकी माता का नाम राधाबाई सावरकर और पिता का नाम दोमोदर पंत सावरकर था.