नई दिल्‍ली: पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज (67) का अंतिम संस्कार बुधवार को द‍िल्‍ली के लोधी रोड के निकट श्मशान के शवदाह गृह में पूरे राजकीय सम्‍मान अदा करने के बाद किया गया. इस दौरान बुजुर्ग नेता लालकृष्‍ण आडवाणी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राजनाथ सिंह और अमित शाह समेत कई नेता मौजूद रहे. अंतिम संस्‍कार से पहले उन्हें बीजेपी के राष्‍ट्रीय कार्यालय मुख्यालय में सम्‍मानपूर्वक विदाई दी गई. यहां पति स्वराज कौशल और बेटी बांसुरी ने सुषमा को सैल्यूट किया. बेटी बांसुरी ने अंतिम संस्‍कार की रस्में पूरी कीं. सुषमा स्वराज का मंगलवार रात दिल का दौरा पड़ने से एम्स में निधन हो गया था.

सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, लालकृष्ण आडवाणी श्रद्धांजलि देने के लिए सुषमा के आवास पर पहुंचे. इस दौरान दोनों नेता परिवार से मिलकर भावुक हो गए. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला और गृह मंत्री अमित शाह ने सुषमा को उनके जंतर-मंतर स्थित आवास पर पहुंचकर श्रद्धांजलि दी. इनके अलावा कांग्रेस नेता राहुल गांधी, सोनिया गांधी, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, बाबा रामदेव, भाजपा सांसद हेमा मालिनी, केरल के पूर्व मुख्यमंत्री ओमान चांडी, दिल्ली के ले.गवर्नर अनिल बैजल, बसपा प्रमुख मायावती, सपा नेमा मुलायम सिंह यादव, कैलाश सत्यार्थी समेत कई हस्तियां उनके आवास पर पहुंचीं. राज्यसभा में सुषमा को श्रद्धांजलि दी गई. वहीं, राज्‍यसभा के सभापति नायडू ने कहा कि वे मुझे रक्षाबंधन पर याद आएंगी.

भाजपा की वरिष्ठ नेता और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के अंतिम दर्शन के लिए पार्टी मुख्यालय में बड़ी तादाद में कार्यकर्ता और प्रशंसक पहुंचे. इस दौरान पार्टी के शीर्ष नेताओं समेत लोगों ने उन्हें अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित की. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा ने स्वराज के पार्थिव शरीर पर राष्ट्रीय ध्वज डाला और उन्होंने श्रद्धाजंलि दी.

बीजेपी अध्‍यक्ष्‍ा अमित शाह ने कहा, आज उनके जाने से बड़ी विपदा भारत के राजनीतिक क्षेत्र में आ खड़ी हुई है, जो लंबे समय तक भर नहीं पाएगी. हम सभी अत्यंत दुख के साथ सुषमा जी को विदाई देने के लिए अपना मन तैयार कर रहे हैं. भगवान उनके परिवार को इस अघात को सहने की शक्ति दे. शाह ने अपने ट्वीट में कहा, ” सुषमा स्वराज का निधन भाजपा और भारतीय राजनीति के लिए एक अपूरणीय क्षति है.” उन्होंने कहा कि पूर्व विदेश मंत्री और भाजपा की वरिष्ठ नेता व संसदीय बोर्ड की सदस्य सुषमा स्वराज के आकस्मिक निधन से मन अत्यंत दुखी है. उन्होंने एक प्रखर वक्ता, एक आदर्श कार्यकर्ता, लोकप्रिय जनप्रतिनिधि और एक कर्मठ मंत्री जैसे विभिन्न रूपों में भारतीय राजनीति में अपनी अमिट छाप छोड़ी है. उन्होंने कहा कि मैं समस्त भाजपा कार्यकर्ताओं की ओर से उनके परिजनों, समर्थकों व शुभचिंतकों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं. ईश्वर दिवंगत आत्मा को चिर शांति प्रदान करें.

सुषमा स्वराज को उनके आवास पर श्रद्धांजलि देने के बाद शाह ने संवाददाताओं से कहा कि विदेश मंत्री के रूप में उन्होंने पूरी दुनिया में भारत का मान बढ़ाया और उनके निधन से जो शून्य उत्पन्न हुआ है, उसका भरना मुश्किल है.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर समेत वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी मुख्यालय पहुंचकर सुषमा को श्रद्धाजंलि दी.

सोनिया गांधी ने पूर्व स्वराज के निधन पर दुख जताया और कहा कि सुषमा उस वक्त चली गईं जब उन्हें अभी सार्वजनिक जीवन में रहकर देश के लिए और योगदान देना था. सुषमा के पति स्वराज कौशल को लिखे पत्र में सोनिया ने कहा, मैं आपकी प्रिय पत्नी के आकस्मिक निधन के बारे में सुनकर स्तब्ध और बहुत दुखी हूं. सोनिया ने कहा, सुषमा स्वराज जी एक नैसर्गिक प्रतिभा वाली महिला थीं. उन्होंने जो भी पद संभाला उस पर रहते हुए उन्होंने साहस, प्रतिबद्धता, समर्पण और योग्यता का परिचय दिया. वह बहुत ही मिलनसार थीं और समाज के सभी तबकों के लोगों के साथ उनका गर्मजोशी भरा रुख होता था.

दिल्ली और हरियाणा सरकार ने दो दिन के राजकीय शोक का ऐलान किया है.

उत्‍तखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने ट्वीट किया, उनके निधन की खबर सुन दुखी हूं. यह भारतीय राजनीति के लिए अपूरणीय क्षति है. हमने एक महान नेता और एक बेहतरीन वक्ता खो दिया, जो मानवीय संवेदनाओं से परिपूर्ण थीं. रावत ने कहा कि भगवान उनकी आत्मा को शांति दे और दुख की इस घड़ी का सामना करने के लिए उनके परिवार को शक्ति.

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ट्वीट किया, सुषमा स्वराज जी के निधन की खबर सुन स्तब्ध हूं. मैं हमेशा उन्हें एक करिश्माई और संवेदनशील नेता के तौर पर याद करूंगा, जिनमें आम जनता की भावनाओं को समझने की क्षमता थी. उन्हें याद करेंगे. भगवान उनकी आत्मा को शांति दे.

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने ट्वीट किया, स्वराज के निधन की खबर सुनकर स्तब्ध हूं. यह मेरे लिए निजी क्षति है. उनके योगदान को हरियाणा और भारत कभी नहीं भूलेगा. मेरी संवेदनाएं उनके परिवार के सदस्यों के साथ है. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे.

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा ने कहा, वह एक दशक से वराह लक्ष्मी पूजा में शामिल होने हर साल बेल्लारी आती थीं. लोग हमेशा उन्हें इसके लिए याद रखेंगे. उन्होंने कहा, भगवान उनकी आत्मा को शांति दे और उनके परिवार को इस दुख की घड़ी का सामना करने की शक्ति.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने स्वराज के निधन पर शोक जताते हुए ट्वीट किया, ”भारत ने एक महान नेता खो दिया. सुषमा जी काफी जोशपूर्ण और विलक्षण इंसान थी. भगवान उनकी आत्मा को शांति दे.”

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने स्वराज को याद करते हुए उन्हें एक करिश्माई राजनेता और महिला सशक्तिकरण का प्रतीक बताया, जिन्होंने हमेशा देशहित में काम किया.