हैदराबाद: तेलंगाना के निज़ामाबाद में कोरोना वायरस से जान गंवाने वाले शख्स के रिश्तेदार उसका शव एक ऑटो में रखकर दफनाने के लिए ले गए. यह कोविड-19 के नियमों का उल्लंघन है. एक रिश्तेदार की मदद से वह सरकारी अस्पताल से शव को ले जाने में कामयाब रहे. लेकिन इस वाकये जो फोटोज सामने आईं हैं वे कोरोना गाइडलाइंस का सरेआम उल्‍लंघन है. Also Read - अजब-गजब: 20 साल की लड़की, पुलिस वाली बनकर फर्जी चालान काटती थी...

अस्पताल के एक अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार को हुई घटना की यह प्राथमिक जानकारी है, लेकिन सारे तथ्य जांच के बाद सामने आएंगे. उन्होंने बताया कि मरीज की मौत गुरुवार रात को इलाज के दौरान हो गई थी. उन्होंने बताया कि संक्रमण के कारण दम तोड़ने वाले शवों के अंतिम संस्कार को लेकर दिशा-निर्देश हैं, जिसके तहत शव को पुलिस सुरक्षा में एक एंबुलेंस में भेजा जाता है. Also Read - Corona Cases in India Update: कोरोना की वजह से 24 घंटे में एक हजार से ज्यादा मौतें, 64 हजार से अधिक नए मामले

अधिकारी ने दावा किया कि मृतक परिवार के सदस्य यह कह कर शव ले गए कि एंबुलेंस के पहुंचने में देर होगी. उनका खुद का ऑटो है. उन्होंने बताया कि परिवार का एक रिश्तेदार कुछ काम के सिलसिले में अक्सर अस्पताल आता था, उसने उनकी मदद की.

अधिकारी ने बताया कि परिवार भीमगल गांव का रहने वाला है, लेकिन शव को निजामाबाद में दफन किया गया.उन्होंने बताया कि जांच पूरी होने के बाद कार्रवाई की जाएगी.