इंदौर: मादक पदार्थों के खिलाफ बड़ी मुहिम में राजस्व आसूचना निदेशालय (डीआरआई) ने मैक्सिको के 43 वर्षीय नागरिक समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है. प्रयोगशाला रसायन और वैज्ञानिक उपकरणों के कारखाने की आड़ में नशीला पदार्थ बनाने के कथित गोरखधंधे का खुलासा करते हुए अलग-अलग स्थानों से करीब 11 किलोग्राम फेंटानिल हाइड्रोक्लोराइड जब्त किया गया है. इस खेप की कीमत वैश्विक बाजार में 100 करोड़ रुपये से ज्यादा आंकी जा रही है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक प्रयोगशाला से जितनी मात्रा में फेंटानिल बरामद की गई है उससे 40 से 50 लाख लोगों की जान लेने की क्षमता है. भारत में फेंटानिल की जब्ती का यह पहला मामला है. केमिकल युद्ध की स्थिति में इसका इस्तमाल भारी पैमाने पर नुकसान पहुंचाने के लिए किया जा सकता था. Also Read - कोरोना संकट के खिलाफ जंग में जुटी महिला डॉक्‍टरों पर किया था हमला, 7 आरोपी गिरफ्तार

डीआरआई ने तीनों आरोपियों की औपचारिक गिरफ्तारी के बाद इन्हें एनडीपीएस मामलों के विशेष न्यायाधीश कृष्णमूर्ति मिश्र के सामने शुक्रवार को पेश किया. इनकी पहचान जॉर्ज सॉलिस (43), मोहम्मद सादिक (59) और मनु गुप्ता (45) के रूप में हुई है. सॉलिस मैक्सिको का नागरिक है, जबकि सादिक और गुप्ता इंदौर के ही रहने वाले हैं. अभियोजन पक्ष ने यह कहते हुए इन्हें हफ्ते भर के लिये डीआरआई की हिरासत में भेजे जाने की गुहार की कि इनकी निशानदेही पर पता किया जाना है कि आरोपी फेंटानिल हाइड्रोक्लोराइड बनाने के लिये कच्चा माल किन लोगों से खरीदते थे. Also Read - एमपी में कोरोना वायरस संक्रमण से 8वीं मौत, इंदौर में आधे घंटे में 2 की मौत

इसके साथ ही इनके कब्जे से जब्त मोबाइलों की अपराध विज्ञान प्रयोगशाला से जांच करायी जानी है, ताकि इनके बीच हुए संवाद के बारे में जानकारी मिल सके. अदालत ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद अभियोजन की गुहार मान ली और तीनों आरोपियों को पांच अक्टूबर तक डीआरआई हिरासत में भेज दिया. डीआरआई सूत्रों ने बताया कि आरोपियों में शामिल सादिक का यहां पोलोग्राउंड औद्योगिक क्षेत्र में रसायन और वैज्ञानिक उपकरणों का कारखाना है. आरोप है कि इस इकाई की आड़ में फेंटानिल हाइड्रोक्लोराइड बनाया जा रहा था, जबकि इस मादक पदार्थ के निर्माण के लिए आरोपी के पास कोई लायसेंस नहीं था. Also Read - कोरोना संक्रमित शख्स के संपर्क में आए लोगों की स्क्रीनिंग करने पहुंची मेडिकल टीम पर पथराव, 2 महिला डॉक्टर घायल

सूत्रों के मुताबिक मादक पदार्थों के गिरोह में मैक्सिको का नागरिक भी कथित तौर पर शामिल है. संदेह है कि वह दोनों स्थानीय आरोपियों से फेंटानिल हाइड्रोक्लोराइड की खेप लेने हाल ही में इंदौर आया था. सूत्रों ने बताया कि दोनों स्थानीय आरोपियों के अलग-अलग परिसरों से कुल 10.91 किलोग्राम फेंटानिल हाइड्रोक्लोराइड जब्त किया गया है. इनमें कारखाना और उनके दफ्तर शामिल हैं. इतनी बड़ी मात्रा में इस मादक पदार्थ की बरामदगी का यह देश में अपनी तरह का पहला मामला बताया जा रहा है. जानकारों ने बताया कि फेंटानिल ऐसा मादक पदार्थ है जिसका इस्तेमाल दर्दनिवारक दवाएं और निश्चेतक बनाने में किया जाता है. अन्य मादक द्रव्यों के साथ इसके अलग-अलग मिश्रण अवैध तौर पर तैयार कर इसका उपयोग नशे के लिये भी किया जाता है.

(इनपुट-भाषा)