इंदौर: मध्य प्रदेश के इंदौर जिले में नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) के विरोध में मिट्टी का तेल डालकर आग लगाने वाले बुजुर्ग रमेश प्रजापति (70) की रविवार शाम उपचार के दौरान मौत हो गई. रमेश प्रजापति मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के कार्यकर्ता थे, और माकपा ने इसे प्रजापति द्वारा हताशा में उठाया गया कदम बताया है. गीता भवन चौराहा पर शुक्रवार शाम रमेश प्रजापति ने आत्मदाह की कोशिश की थी. उन्होंने बस से उतर कर खुद पर मिट्टी का तेल डालकर आग लगा ली थी. आत्मदाह के दौरान उन्होंने कुछ पर्चे भी फेंके थे. जिसके बाद से उनका अस्पताल में इलाज चल रहा था. रविवार देर शाम उनका निधन हो गया. तुकोगंज थाना प्रभारी निर्मल श्रीवास ने रमेश की मौत की पुष्टि की है. Also Read - Petrol Diesel Price Hike: पेट्रोल-डीजल में फिर लगी आग, यहां 100 रुपये हुई कीमत, बिक्री हो गई बंद

सुब्रमण्यम स्वामी की सरकार को चुनौती, एयर इंडिया बिकी तो मजबूरन जाना पड़ेगा कोर्ट Also Read - High Court ने स्‍टैंडअप कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी समेत दो आरोपियों की जमानत याचिकाएं खारिज कीं

अखिल भारतीय किसान सभा के संयुक्त सचिव और माकपा के पूर्व राज्य सचिव बादल सरोज ने कहा, “सीएए को लेकर लोगों में बेचैनी है, इस पर संवाद भी नहीं हो रहा है. इससे लोगों में हताशा भी है. रमेश ने भी इसी हताशा के चलते यह कदम उठाया. लेकिन माकपा इस तरीके से सहमत नहीं है.” Also Read - एमपी में जबरन धर्मांतरण का मामला, हिंदू युवती की शिकायत, मां-बाप समेत 9 लोग अरेस्‍ट

बता दें कि पूरे देश में नागरिकता कानून का विरोध हो रहा है. दिल्ली का शाहीन बाग़ इसका केंद्र बना हुआ है. केरल, पश्चिम बंगाल, राजस्थान सहित कई राज्यों ने इस क़ानून के खिलाफ विधानसभाओं में प्रस्ताव पारित भी किया है. कई राज्यों का कहना है कि इस कानून को वह लागू नहीं होने देंगे. वहीं बीजेपी की सहयोगी पार्टी जदयू के प्रमुख सीएम नितीश कुमार भी कह चुके हैं कि वह NRC लागू नहीं होने देंगे.

मासूम शरारत: प्रार्थना के बीच बच्चे ने चुपके से चूसी लॉलीपॉप, VIDEO देख मुस्कुराए बिना नहीं रहेंगे आप