हजारीबाग: झारखंड के हजारीबाग में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है जहां एक ही परिवार के 6 लोगों की मौत हो गई है. पुलिस के मुताबिक मामला सदर थाना क्षेत्र के खजांची तालाब स्थित एक अपार्टमेंट का है जहां कर्ज और बीमारी से परेशान होकर 40 साल के नरेश अग्रवाल ने पहले अपने पूरे परिवार को मौत की नींद सुलाया और फिर खुद छत से कूदकर आत्महत्या कर ली. Also Read - सुसाइड करने को नदी में कूदी महिला, लेकिन 'रायता ब्रिज' में फंस गई साड़ी, फिर...

पुलिस को घटनास्थल से मिले सुसाइड नोट के मुताबिक मुख्य रूप से नरेश घर में कमाने वाले आदमी थे और वो भारी कर्ज के बोझ तले दबे हुए थे. इसके अलावा नरेश अपने पिता की बीमारी पर भी बहुत पैसा खर्च कर चुके थे और इस बात को लेकर भी परेशान थे जिससे घर में भी काफी तनाव रहने लगा था जिससे निजात पाने के लिए उन्होंने इस सामूहिक खुदकुशी को अंजाम दिया. Also Read - यूपी: सब्जी खरीदने निकली 12वीं की छात्रा का शव पेड़ से लटकता मिला, एक लड़का...

पुलिस के मुताबिक नरेश ने पहले अपने दोनों बच्चों को धारदार हथियार से काटकर हत्या कर दी. इसके बाद उसने अपनी पत्नी और माता-पिता को भी फांसी के फंदे पर टांग दिया और फिर अंत में छत से कूदकर खुद का जीवन भी खत्म कर दिया. आसपास के लोगों का कहना है कि वैसे तो यह परिवार काफी शांत स्वभाव का था लेकिन इन दिनों कर्ज इतना ज्यादा बढ़ गया था कि इन लोगों का स्वाभाव चिड़चिड़ा हो गया था.

मरने वालों की पहचान
एक ही परिवार के 6 लोगों की मौत से हर कोई हैरान है. इस घटना में मरने वालों में महावीर माहेश्वरी 70 साल, उनकी पत्नी किरण माहेश्वरी 65 वर्ष, उन दोनों का बेटा नरेश अग्रवाल 40 वर्ष, उसकी पत्नी प्रीति अग्रवाल 38 वर्ष, उन दोनों के दो बच्चे जिनका नाम अमन अग्रवाल 8 वर्ष और अंजलि 6 वर्ष है.

इससे पहले दिल्ली के बुराड़ी इलाके में भी एक ही परिवार के 11 लोगों ने सामूहिक आत्महत्या को अंजाम दिया था. हालांकि बुराड़ी केस में जहां मामला तंत्र-मंत्र से जुड़ा था वहीं हजारीबाग मामला कर्ज से जुड़ा है. लेकिन हजारीबाग की घटना ने एक बार फिर से बुराड़ी मामले को ताजा कर दिया है.