कोलकाता: रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को लौटाने के लिए पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को ‘राजनेता’ करार देने वाले लोगों की रविवार को आलोचना की और कहा कि पायलट की रिहाई कानून के मुताबिक हुई और यह कोई एहसान नहीं था.

CM मनोहर पर्रिकर का निधन, कल पणजी में किया जाएगा अंतिम संस्कार, राष्ट्रीय शोक घोषित

उन्होंने कहा कि 1971 के युद्ध के बाद भारत ने बिना शर्त 90,000 पाकिस्तानी सैनिकों को वापस भेजा था. इस युद्ध में पाकिस्तान परास्त हो गया था.

मनोहर पर्रिकर: 25 साल का करियर, 4 बार CM, 1 बार बने रक्षामंत्री, ऐसा रहा राजनीति के ‘कॉमन मैन’ का सफर

उन्होंने कहा, ‘‘हालांकि, भारत में कुछ लोगों, कुछ पत्रकारों और कुछ विचारकों ने हमारे पायलट को वापस भेजने पर उन्हें (खान) एक राजनेता करार दिया लेकिन यह केवल कानून के कारण हुआ और यह भारत पर कोई एहसान नहीं था. वे यह भी सवाल कर रहे हैं कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने क्या किया.’’