Rajnath Singh Leh Visit Update: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह एलएसी और एलओसी की सुरक्षा हालात का जायजा लेने के लिए दो दिवसीय दौरे पर आज लेह पहुंचे हैं. चीन के साथ जारी सीमा विवाद के मद्देनजर वह क्षेत्र में सुरक्षा हालात की विस्तृत समीक्षा करेंगे. रक्षा मंत्री के इस दौरे में प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल एम. एम. नरवणे भी उनके साथ हैं. वे यहां लेह के स्टाकना पहुंचे हैं. Also Read - नेपाली राष्‍ट्रपति भारत के आर्मी चीफ को 'नेपाल सेना के जनरल' का मानद पद प्रदान करेंगी

रक्षा मंत्री के यहां पहुंचने पर आर्म्‍ड फोर्सेस के जवानों ने अपनी कुशलता का प्रदर्शन किया. भारतीय सशस्त्र बलों के सैनिकों ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा स्टाफ जनरल बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवने की मौजूदगी में स्टकना, लेह में पैरा ड्रापिंग अभ्यास किया.

लद्दाख: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे लेह के स्टाकना पहुंचे. उन्‍होंने यहां सशस्त्र बलों के पैरा ड्रापिंग कौशल को देखा. सिंह अग्रिम इलाकों में से लुकुंग भी जाएंगे.

बता दें कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवाणे लेह हवाई अड्डे पर उतरकर स्‍टाकना पहुंचे. रक्षा मंत्री दो दिवसीय लद्दाख और जम्मू और कश्मीर के दौरे पर हैं.

बता दें कि इससे पहले तीन जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लद्दाख का औचक दौरा किया था. उन्होंने सैनिकों को संबोधित किया था और संकेत दिए थे कि भारत-चीन सीमा विवाद के संबंध में भारत का रुख सख्त रहेगा. सिंह को भी तीन जुलाई को ही दौरे पर जाना था लेकिन किन्हीं कारणों से उनका जाना नहीं हो पाया था.

पूर्वी लद्दाख में पांच मई से भारत और चीन के सैनिकों के बीच गतिरोध चल रहा है. गलवान घाटी में दोनों ओर के सैनिकों के बीच हुई झड़प में भारत के 20 सैन्यकर्मियों की मौत के बाद यह तनाव बहुत अधिक बढ़ गया. हालांकि कई दौर की राजनयिक एवं सैन्य बातचीत के बाद छह जुलाई से दोनों ओर के सैनिक पीछे हटना शुरू हुए.