नई दिल्ली: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह देश की सैन्य तैयारियों का जायजा लेने और समग्र स्थिति की समीक्षा करने के लिए आज शुक्रवार को लद्दाख के दौरे पर रवाना हो गए हैं. उनके साथ थलसेना अध्यक्ष जनरल एम एम नरवणे भी हैं. सूत्रों ने कहा कि सिंह जनरल एमएम नरवणे, उत्तरी सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल योगेश कुमार जोशी, 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह तथा अन्य वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों के साथ क्षेत्र में सुरक्षा स्थिति की समग्र समीक्षा करेंगे. Also Read - अब मैदान-ए-जंग में दुश्मनों के टैंक होंगे खाक, भारत ने इस खतरनाक मिसाइल का किया सफल परीक्षण

रक्षा मंत्री ने लद्दाख रवाना होने से पहले ट्वीट कर बताया, दो दिवसीय लद्दाख और जम्मू-कश्मीर की यात्रा पर लेह के लिए रवाना हो रहा हूं. मैं सीमाओं पर स्थिति की समीक्षा करने और क्षेत्र में तैनात सशस्त्र बल के जवानों के साथ बातचीत करने के लिए आगे के क्षेत्रों का दौरा करूंगा. इसके लिए आगे देख रहे हैं. Also Read - LAC पर तनातनी के बीच भारतीय सेना ने चीन को उसका सैनिक लौटाया, लद्दाख बॉर्डर के पास पकड़ा गया था

रक्षा मंत्री सिंह का यह दौरा ऐसे समय हो रहा है जब भारत और चीन तनातनी वाले स्थानों से सैनिकों को पूरी तरह पीछे हटाने के लिए एक कार्ययोजना को अंतिम रूप देने की ओर बढ़ रहे हैं. रक्षा मंत्री के साथ थलसेना अध्यक्ष जनरल एम एम भी हैं.

भारत और चीन की सेनाओं के बीच पांच मई को वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर गतिरोध शुरू होने के बाद से राजनाथ सिंह का लद्दाख का यह पहला दौरा होगा. सूत्रों ने कहा कि सिंह जनरल नरवणे, उत्तरी सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल योगेश कुमार जोशी, 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह तथा अन्य वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों के साथ क्षेत्र में सुरक्षा स्थिति की समग्र समीक्षा करेंगे.

लद्दाख से रक्षा मंत्री श्रीनगर जाएंगे जहां वह शनिवार को वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों के साथ उच्चस्तरीय बैठक में पाकिस्तान से लगती नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर स्थिति की समीक्षा करेंगे. बता दें कि सिंह को पहले तीन जुलाई को लद्दाख जाना था, लेकिन उनका यह दौरा टल गया था.

सिंह का दौरा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के तीन जुलाई को लद्दाख के औचक दौरे के कुछ दिन बाद हो रहा है. मोदी ने अपने दौरे के दौरान सैनिकों को संबोधित किया था और सीमा पर जारी गतिरोध से सख्ती से निपटने का संकेत दिया था.

बता दें कि पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं के बीच कई स्थानों पर पांच मई से गतिरोध जारी था. गलवान घाटी में हिंसक झड़प के बाद भारत और चीन के बीच तनाव चरम पर पहुंच गया था. इसमें भारतीय सेना के 20 जवान वीरगति को प्राप्त हो गए थे.

झड़प में चीनी सेना को भी नुकसान हुआ, जिसकी उसने अब तक जानकारी नहीं दी है. अमेरिका की एक खुफिया रिपोर्ट के अनुसार इस झड़प में चीन के 35 सैनिक हताहत हुए, जबकि भारतीय पक्ष ने विभिन्न आकलन के आधार पर यह संख्या इससे भी अधिक बताई थी.

हालांकि, कूटनीतिक और सैन्य स्तर की सिलसिलेवार बातचीत के चलते दोनों पक्षों ने पारस्परिक सहमति के आधार पर छह जुलाई से सैनिकों को हटाने की प्रक्रिया शुरू कर दी और अब तनातनी वाले ज्यादातर स्थानों से सैनिक पीछे हट गए हैं।

सरकारी सूत्रों ने कहा कि दोनों सेनाओं के वरिष्ठ कमांडरों ने कल मंगलवार को चौथे दौर की बात की. इस दौरान भारतीय पक्ष ने ”बहुत ही स्पष्ट ढंग से’’ चीनी सेना को संदेश दिया कि पूर्वी लद्दाख में गतिरोध शुरू होने से पहले की यथास्थिति बहाल होनी चाहिए और चीन को एलएसी पर शांति एवं स्थिरता वापस लाने के वास्ते सीमा प्रबंधन के लिए पारस्परिक सहमति वाले सभी प्रोटोकॉल का पालन करना होगा.

सूत्रों ने बताया कि लगभग 15 घंटे चली इस बैठक में भारतीय पक्ष ने चीनी सेना को ”लक्ष्मण रेखा” के बारे में अवगत कराया और कहा कि क्षेत्र में समूची स्थिति में सुधार की जिम्मेदारी चीन पर है.