रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राफेल लड़ाकू विमान आरबी001 में उड़ान भरने के बाद कहा कि ये उनके जीवन का सबसे अद्भुत क्षण था. उन्होंने कहा कि राफेल विमान भारत की युद्धक क्षमता को बढ़ाएगा. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राफेल जेट में उड़ान भरने के अपने अनुभव को साझा करते हुए कहा कि यह बहुत आरामदायक और स्मूथ उड़ान थी. उन्होंने कहा, “यह एक अभूतपूर्व क्षण था, मैंने कभी नहीं सोचा था कि एक दिन मैं किसी विमान में सुपर सोनिक गति से उड़ूंगा.” उन्होंने कहा, “आज राफेल कम्बैट एयरक्राफ्ट की हैडिंग ओवर सेरेमनी थी और हैडिंग ओवर सेरेमनी पूजा करने के बाद ये संपन्न हुई है. यहां कि डिफेंस मिनिस्टर ने मुझे हैंडओवर किया है.” रक्षा मंत्री ने कहा कि फरवरी 2021 तक भारत को 18 राफेल विमान मिल जाएंगे. उन्होंने ये भी बताया कि सभी 36 राफेल विमान अप्रैल-मई 2022 तक मिल जाएंगे.


राजनाथ सिंह ने कहा, “राफेल विमान के कारण हमारे निश्चित रूप से हमारी नवायुसेना की युद्धक क्षमता में इजाफा हुआ है. ये बहुत बड़ी वृद्धि हुई है.” रक्षा मंत्री ने साथ ही ये भी स्पष्ट कर दिया कि भारत किसी पर आक्रमण करने के लिए अपनी युद्धक क्षमता नहीं बढ़ा रहा है. उन्होंने कहा, “हम किसी पर आक्रमण करने के लिए अपनी युद्धक क्षमता नहीं बढ़ा रहे हैं बल्कि हम इसे अपने सेल्फ डिफेंस के लिए बढ़ा रहे हैं.”

राजनाथ सिंह ने आगे कहा, “राफेल लिए जाने के संबंध में जो सबसे बड़ा फैसला लिया गया है उसके लिए मैं सारा क्रेडिट अपने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को देना चाहता हूं. उनकी दृढ़ता के कारण ही ये फैसला हो पाया है. मैंने खुद इस विमान में उड़ान भरी है. हमारे साथ कैप्टन फिल ने उड़ान भरी. बहुत स्मूथ फ्लाइट थी. इन्होंने मुझे पूरी डिटेल समझाई. फिल ने सब कुछ बताया कि कैसे हमने उड़ान भरी, कितनी ऊंचाई पर गए.. सब.” रक्षा मंत्री ने बताया कि कैप्टन फिल ने उन्हें सुपसोनिक स्पीड में भी उढ़ान भराई.


बता दें कि भारतीय वायुसेना ने फ्रांस से खरीदे गये 36 राफेल लड़ाकू विमानों की श्रृंखला में प्रथम विमान यहां मंगलवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की उपस्थिति में प्राप्त किया. सिंह वायुसेना के लिए प्रथम राफेल विमान को प्राप्त करने के लिये यहां फ्रांस के दक्षिण-पश्चिम शहर बरदो के मेरिनियाक में आयोजित समारोह में शामिल हुए. रक्षा मंत्री ने विमान को प्राप्त करने के बाद कहा, ‘‘राफेल वायु क्षेत्र में भारत की ताकत को तेजी से बढ़ाएगा.’’ रक्षा मंत्री ने भारत की पारंपरिक शस्त्र पूजा भी की. यह पूजा दशहरे के अवसर पर की जाती है. इसके अलावा आज वायु सेना का 87वां स्थापना दिवस भी है. शस्त्र पूजा के बाद सिंह के राफेल विमान से उड़ान भरी. भरत ने 59,000 करोड़ रूपये के सौदे के तहत सितंबर 2016 में फ्रांस से 36 लड़ाकू विमान खरीद का आर्डर दिया था. चार लड़ाकू विमानों की प्रथम खेप भारत में वायुसेना के अड्डे पर मई 2020 में आएगी. सभी 36 लड़ाकू विमानों के सितंबर 2022 तक भारत पहुंचने की उम्मीद हैं