Delhi-Air Pollution: सुप्रीम कोर्ट और NGT के आदेश के बावजूद दिवाली के मौके पर हुई आतिशबाजी के बाद दिल्ली-NCR की आबोहवा ‘गंभीर’ स्थिति में पहुंच गई. दिल्ली के कई इलाकों में एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) ‘गंभीर स्थिति तक पहुंच गया’. दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (DPCC) के आंकड़ों के अनुसार, PM 2.5 प्रदूषक के लिए वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) आनंद विहार में 481, IGI एयरपोर्ट क्षेत्र में 444, ITO में 461, और लोधी रोड इलाके में 414 दर्ज की गई जो सभी ‘गंभीर’ श्रेणी में है.Also Read - दिल्ली के कंस्ट्रक्शन मजदूरों को 5000 रुपये देगी केजरीवाल सरकार, जानें पूरी डिटेल

Also Read - Pollution: सुप्रीम कोर्ट ने पूछा, क्या सेंट्रल विस्टा के कारण दिल्ली में प्रदूषण बढ़ रहा है, मेट्रो को भी दिया ये आदेश

गाजियाबाद और नोएडा में भी हवा की गुणवत्ता ‘गंभीर’ स्थित में पहुंच गई है. वहीं, ग्रेटर नोएडा, फरीदाबाद और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) के गुड़गांव में यह ‘बहुत खराब’ की श्रेणी में रहा.’ Also Read - Delhi Schools Reopen: दिल्ली में कल से खुलेंगे सभी स्कूल-कॉलेज-सरकारी दफ्तर, ट्रकों की एंट्री नहीं

प्रदूषण की स्थिति से निपटने के लिए उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने आधी रात में सदर बाजार इलाके में पानी का छिड़काव किया. नॉर्थ दिल्ली के मेयर जयप्रकाश हॉट स्पॉट एरिया में फॉगिंग कराते नजर आए ताकि बढ़े हुए प्रदूषण को कम किया जा सके. दिल्ली में तड़के चार बजे दर्ज किए AQI में गंभीर स्थिति देखने को मिली.

दिल्ली में प्रदूषण के कारण कई इलाकों में सुबह विजिबिलिटी में भी लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा. मौसम विभाग के अधिकारियों के मुताबिक दिल्ली-NCR में पटाखे जलाने के साथ-साथ पंजाब-हरियाणा (Punjab-Haryana) जैसे पड़ोसी राज्यों में बदस्तूर पराली जलाने (Stubble Burning) की घटनाओं से भी स्थिति भयावह हुई है.

बता दें कि 0 और 50 के बीच AQI को ‘अच्छा’, 51 और 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 और 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 और 300 के बीच ‘खराब’, 301 और 400 के बीच ‘बेहद खराब’ और 401 से 500 के बीच ‘गंभीर’ माना जाता है.