Delhi Air Pollution: राष्ट्रीय राजधानी में सोमवार को वायु की गति बढ़ने से प्रदूषक तत्वों के छितर जाने के कारण वायु गुणवत्ता में थोड़ा सुधार हुआ है. शहर में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 286 रहा जो ‘खराब’’ की श्रेणी में आता है. पिछले 24 घंटे में रविवार को दिल्ली का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 364 रहा. दिल्ली में पीएम 2.5 प्रदूषक कणों में पराली जलाने की भागीदारी 40 प्रतिशत रही. Also Read - Delhi Air Pollution: दिल्ली में फिर खराब स्तर पर पहुंची वायु की गुणवत्ता, जानें क्या है आज का AQI

शनिवार को यह 367 था जबकि शुक्रवार को 374, बृहस्पतिवार को 395, बुधवार को 297, मंगलवार को 312 और सोमवार को 353 दर्ज किया गया था. उल्लेखनीय है कि 0 और 50 के बीच एक्यूआई को ‘अच्छा’, 51 और 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 और 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 और 300 के बीच ‘खराब’, 301 और 400 के बीच ‘बेहद खराब’ और 401 से 500 के बीच ‘गंभीर’ माना जाता है. Also Read - Delhi Air Pollution Latest Updates: तेज हवाओं, पराली के कम जलने से दिल्ली की हवा हुई साफ, जानिए क्या रहा AQI

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की वायु गुणवत्ता निगरानी एजेंसी ‘सफर’ के अनुसार, रविवार को पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में खेतों में आग की घटनाएं बड़ी संख्या में हुईं, जिससे दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और उत्तर पश्चिम भारत में वायु गुणवत्ता पर असर पड़ने की आशंका है. Also Read - Delhi Air Pollution: Real-time Air Quality Index: दिल्ली-NCR में फिर गंभीर श्रेणी में पहुंची हवा की गुणवत्ता, इस बार पराली नहीं है कारण!

इसने कहा कि वायु की गति बढ़ने और बेहतर वायु संचार सोमवार को प्रदूषक तत्वों के बिखरने के निए अनुकूल हैं. पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की वायु गुणवत्ता निगरानी एजेंसी ‘सफर’ के अनुसार, रविवार को दिल्ली में पीएम 2.5 प्रदूषक कणों में पराली जलाने की भागीदारी 40 प्रतिशत रही.

नासा से प्राप्त उपग्रह चित्रों में पंजाब में और हरियाणा एवं उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में पराली इत्यादि जलाने की घटनाओं की पुष्टि हुई. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, सोमवार को हवा की दिशा मुख्य रूप से पश्विम-उत्तर पश्चिम रही और हवा की अधिकतम गति 18 किलोमीटर प्रति घंटे रही. ठंडी हवाओं और कम तापमान के कारण प्रदूषक जमीन के निकट रहते हैं, जबकि वायु की अनुकूल रफ्तार के कारण इनके बिखराव में मदद मिलती है.