नई दिल्ली, 11 फरवरी | राष्ट्रीय राजधानी स्थित रामलीला मैदान को भावी मुख्यमंत्री आम आदमी पार्टी (आप) नेता अरविंद केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह के लिए बुधवार को सजाने-संवारने का काम जारी रहा। केजरीवाल 14 फरवरी को दिल्ली के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण करेंगे। बीते साल कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाने वाले केजरीवाल ने रामलीला मैदान में ही शपथ ग्रहण किया था। हालांकि 49 दिनों तक सरकार चलाने के बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया था। यह भी पढ़ें– तो इसलिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अरविंद केजरीवाल का न्योता ठुकरा दिया 

इस बार हालांकि आप को कुल 70 में से रिकॉर्ड 67 सीटें मिली है। काम पर नजर रख रहे एक सुपरवाइजर ने आईएएनएस से कहा कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम के लगभग 40 मजदूरों को छह दलों में विभाजित किया गया है और उनके बीच काम को बांट दिया गया है। कई मजदूर वहां झाड़ू लिए साफ-सफाई में मशगूल दिखे। यह वही मैदान है, जहां एक मजबूत जनलोकपाल लाने के लिए साल 2011 में समाजसेवी अन्ना हजारे के नेतृत्व में इंडिया अगेंस्ट करप्शन ने आंदोलन किया था। इसके बाद साल 2012 में हुए आंदोलन की उपज आप है।  यह भी पढ़ें– मनीष सिसौदिया बनाए जा सकते हैं दिल्ली के उप मुख्यमंत्री

इस दौरान, एक अन्य दल ने सफेद रंग के चबूतरे को साफ किया, जहां केजरीवाल शपथ ग्रहण करेंगे, जबकि एक दूसरे दल ने मंच के सामने इस्पात के खंभों को साफ सुथरा किया। शनिवार को हजारों लोगों के इस समारोह के साक्षी बनने की उम्मीद की जा रही है। सुपरवाइजर ने कहा, “पीछे कुर्सियां होंगी और आगे दरी बिछी होगी, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग आ सकें। इस मैदान में 30 हजार से लेकर 40 हजार लोग आ सकते हैं।”

इसी बीच, सुरक्षा व्यवस्था की बात करते हुए एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि मीडिया, वीईआईपी व जनता के लिए विभिन्न दरवाजे बनाए गए हैं। विभिन्न जगहों पर दर्जन भर से ज्यादा मेटल डिटेक्टर तथा एक्सरे मशीनों से लोगों की जांच की जाएगी।

मैदान में बम निरोधी दस्ता, अग्निशमन दस्ता तथा एंबुलेंस भी मौजूद रहेंगे।