नई दिल्ली: एसोसिएशन ऑफ़ डेमोक्रेटिक रिफार्म (Association for Democratic Reforms) नाम की संस्था के अनुसार दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के 25 प्रतिशत प्रत्याशी और भाजपा के 20 प्रतिशत प्रत्याशियों ने अपने चुनावी हलफनामों में यह घोषणा की है कि उनके खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं.

एडीआर ने कहा कि कांग्रेस के भी 15 प्रतिशत प्रत्याशियों ने अपने खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले दर्ज होने की घोषणा की है. आठ फरवरी को होने जा रहे दिल्ली विधानसभा चुनाव में इस बार 672 प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं.

अरविंद केजरीवाल ने बजट साधा निशाना, कहा- दिल्ली BJP की प्राथमिकता में नहीं, आज ये साबित हुआ

वहीं दूसरी तरफ राष्ट्रीय राजधानी के शाहीन बाग में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ चल रहे प्रदर्शनों के बीच दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) रणबीर सिंह ने विधानसभा चुनाव के मद्देनजर हालात तथा तैयारियों का जायजा लेने के लिए क्षेत्र का दौरा किया. सिंह ने कहा कि क्षेत्र में जिस जगह आठ फरवरी को चुनावी गतिविधियां होनी हैं वहां किसी प्रकार की कोई बाधा नहीं है. उन्होंने कहा कि चुनाव तंत्र ‘अतिरिक्त चौकन्ना’ हैं और राष्ट्रीय राजधानी में हर वक्त हालात का आकलन कर रहा है.

उन्होंने कहा,‘‘मैंने शाहीन बाग इलाके का दौरा किया और पाया कि वहां पांच मतदान केन्द्र आवासीय क्षेत्र में हैं,जबकि प्रदर्शन सड़कों पर हो रहे हैं. तो इस प्रकार उस क्षेत्र में कोई बाधा नहीं है जहां चुनाव प्रक्रिया होनी है और मतदाताओं को काई समस्या नहीं होगी.’’

दिल्ली में कानून व्यवस्था नाजुक, चुनाव के लिए दिल्ली पुलिस ने मांगे अतिरिक्त सुरक्षा बल

शाहीन बाग ओखला विधानसभा क्षेत्र में आता है और यह इलाका राष्ट्रीय राजधानी में सीएए विरोधी प्रदर्शनों का केन्द्र बन गया है. दिल्ली में आठ फरवरी को मतदान होना है और मतगणना 11 फरवरी को होगी.