Delhi Assembly Election 2020: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) के पास 3.4 करोड़ रुपये की संपत्ति है और वर्ष 2015 से इसमें 1.3 करोड़ रुपये का इजाफा हुआ है. केजरीवाल ने मंगलवार को विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन में जो हलफनामा जमा किया उसके मुताबिक 2015 में उनकी कुल संपत्ति 2.1 करोड़ रुपये की थी. केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल के पास 2015 में नकदी और सावधि जमा (एफडी) 15 लाख रुपये की थी जो 2020 में बढ़कर 57 लाख रुपये हो गया. Also Read - Gujarat: Arvind Kejriwal सूरत में नवनिर्वाचित AAP पार्षदों से मिले, करेंगे रोड शो

पार्टी के एक पदाधिकारी ने कहा कि स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लाभ (वीआरएस) के तौर पर सुनीता केजरीवाल को 32 लाख रुपये और एफडी मिले बाकि उनका बचत धन है. मुख्यमंत्री के पास नकदी और एफडी 2015 में 2.26 लाख रुपये की थी जो 2020 में बढ़कर 9.65 लाख हो गई. उनकी पत्नी की अचल संपत्ति के मूल्यांकन में कोई बदलाव नहीं हुआ है जबकि केजरीवाल की अचल संपत्ति 92 लाख रुपये से बढ़कर 177 लाख रुपये हो गई. पार्टी के पदाधिकारियों ने बताया कि 2015 में केजरीवाल की जितनी अचल संपत्ति थी, उसके भाव में बढ़ोत्तरी के कारण यह वृद्धि हुई है. Also Read - कम की गई केजरीवाल की सुरक्षा, हटाए गए दिल्ली पुलिस के कमांडो? जानिए क्या बोला गृह मंत्रालय

आपको बता दें कि केजरीवाल ने मंगलवार को आखिरकार घंटों की देरी के बाद 8 फरवरी को होने जा रहे दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर नामांकनपत्र दाखिल किया. जामनगर हाउस स्थित निर्वाचन अधिकारी (आरओ) के कार्यालय में नामांकन दाखिल करने के लिए केजरीवाल लगभग 12.30 बजे यहां पहुंचे थे और शाम को लगभग 7 बजे वह बाहर आए. Also Read - Nursery Admission Delhi 2021: नर्सरी दाखिले के लिए यह है Online रजिस्ट्रेशन का तरीका, जानें स्टेप बाई स्टेप में सभी जानकारी...

पर्चा दाखिल करने के लिए उनका नंबर 45 था. मंगलवार को नामांकनपत्र दाखिल करने का अंतिम दिन था. इस दौरान केजरीवाल के साथ उनके माता-पिता सहित पूरा परिवार, आम आदमी पार्टी (आप) के नेता पंकज गुप्ता और गोपाल मोहन मौजूद रहे.

 

इनपुट-भाषा