Delhi Assembly Election 2020: उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कहा कि पाकिस्तान के मंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) के समर्थन में इसलिए बयान देते हैं क्योंकि वे जानते हैं कि अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ही शाहीन बाग़ (Shaheen Bagh) में आंदोलनकारियों को बिरयानी बँटवा सकते हैं. अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए योगी आदित्यनाथ ने ये बयान दिल्ली के विकासपुरी में जनसभा को संबोधित करते हुए ये बयान दिया है.Also Read - दिल्ली में बीते 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के करीब 400 नए केस, दो लोगों की गई जान

BJP सांसद अनंत हेगड़े ने कहा- नाटक था महात्मा गांधी का आंदोलन, कांग्रेस बोली- अंग्रेज़ों के चमचे सर्टिफ़िकेट न दें Also Read - अच्छी खबर! दिल्ली में थमी कोरोना की रफ्तार, बीते 24 घंटे में सामने आए 377 नए केस- एक मरीज की गई जान

दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election) 8 फरवरी को है. ऐसे में योगी आदित्यनाथ भी दिल्ली में सक्रिय हैं और लगातार रैली कर रहे हैं. आज विकासपुरी में हुई रैली में योगी आदित्यनाथ ने अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व की सरकार ने अपनी ओर से तो यहां के लोगों के लिए कोई सुविधा नहीं दी. केंद्र भी जो योजना देना चाहता था उसे दिल्ली में लागू नहीं होने दिया. Also Read - CM केजरीवाल ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस, एमसीडी की बुलडोजर कार्रवाई पर साधा निशाना | Watch Video

संसद में विपक्ष का जोरदार हंगामा, ‘गोली मारना बंद करो’ के नारों से गूंजा लोकसभा

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मुझे बताते हुए बहुत अफसोस है कि दिल्ली के अंदर पिछले 5 वर्ष के दौरान केजरीवाल के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी ने दिल्ली की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया. दिल्ली में कोई विकास का काम नहीं किया गया. केजरीवाल ने कहा था कि हर विधासनभा क्षेत्र में नए स्कूल और पाठशाला खोलेंगे, पाठशाला नहीं खोलीं लेकिन मोहल्ले-मोहल्ले मधुशालाएं खुलवा दिए. कहा था RO का पानी पिलाएंगे. RO का पानी तो नहीं पिलाया उल्टे यमुना जी के जल को और जहरीला बना दिया. योगी ने कहा कि धारा 370 (Article 370) हटाने की हिम्मत नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने दिखाई. उस समय दो लोगों की बोली पाकिस्तान (Pakistan) के साथ मिलती थी. एक राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और दूसरे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) की. दोनों के स्वर उस समय पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से मिलते थे.