नई दिल्ली: दिल्ली के शाहीन बाग (Shaheen Bagh) में सीएए (CAA) के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन के मद्देनजर दिल्ली निर्वाचन आयोग (Delhi Election Commission) ने इलाके में आने वाले सभी पांच मतदान केंद्रों को संवेदनशील श्रेणी में रखा है. बता दें कि दिल्ली के शाहीन बाग़ इलाके में पिछले चालीस दिनों से नागरिकता कानून और एनआरसी के खिलाफ आंदोलन चल रहा है. यहां रोज हज़ारों की भीड़ उमड़ती है. अधिकतर महिलाएं हैं.

नागरिकता कानून और NRC के खिलाफ प्रदर्शनों का आखिर क्या है मकसद, विपक्ष ने ये बात कहकर बताया

दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (CEO) रणबीर सिंह ने बुधवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘शाहीन बाग में मौजूदा विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर हमने इलाके में सभी पांच मतदान केंद्रों को संवेदनशील श्रेणी में रखा है. इन पांच केंद्रों पर करीब 40 बूथ होंगे. इन सभी बूथ को संवेदनशील श्रेणी में रखा गया है. उन्होंने कहा कि मतदाताओं में विश्वास बढ़ाने के लिए सुरक्षा बल इलाके में मार्च और गश्त करेंगे.

मिलिए अरविंद केजरीवाल की सारथी बनीं IITian बेटी से, नौकरी से छुट्टी लेकर घूम रहीं दिल्ली की गलियां

ओखला के शाहीन बाग इलाके में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के खिलाफ 15 दिसंबर से महिलाओं और बच्चों समेत सैकड़ों लोग धरने पर बैठे हैं. उन्होंने कहा कि पुलिस बल और चुनाव कर्मी ‘‘अतिरिक्त चौकसी’’ बरतेंगे और हर वक्त हालात की निगरानी करेंगे. शाहीन बाग ओखला निर्वाचन क्षेत्र में आता है. राष्ट्रीय राजधानी में सीएए विरोधी प्रदर्शनों का यह केंद्र बना हुआ है और राजनीतिक दलों ने यहां के प्रदर्शन को चुनावी मुद्दा बना लिया है. दिल्ली में वोट डालने के लिए 1,47,86,382 योग्य मतदाता हैं. इसमें 2,32,815 लोग 18 से 19 वर्ष के हैं.