Delhi Assembly Election 2020: दिल्ली में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान हो चुका है. एग्ज़िट पोल के नतीजे भी आ गए हैं. सभी एग्ज़िट पोल (Delhi Assembly Election 2020 Exit Poll) के नतीजों के अनुसार आम आदमी पार्टी को एकतरफा बहुमत मिल सकता है. सर्वे के अनुसार अरविंद केजरीवाल बड़े बहुमत के साथ एक बार फिर दिल्ली के सीएम बनने जा रहे हैं. बीजेपी और कांग्रेस आम आदमी पार्टी से बहुत आगे है. दिल्ली चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को आएंगे.

वहीं, बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) ने एग्जिट पोल के सभी नतीजों को नकार दिया है. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि एग्ज़िट पोल के सभी नतीजे फेल हो जाएंगे. बीजेपी को कम से कम 48 सीटें मिलेंगी. मनोज तिवारी ने ये भी कहा कि 11 फरवरी को मतगणना और बीजेपी की सरकार बनने के बाद विपक्षी ईवीएम को दोष देने का बहाना तलाश लें. मनोज तिवारी पहले भी दावा करते रहे हैं कि दिल्ली में पूरे बहुमत के साथ बीजेपी की सरकार बनेगी.

Delhi Assembly Election 2020 Exit Poll: ‘आप’ बड़ी जीत की ओर, एग्ज़िट पोल में BJP-कांग्रेस बहुत पीछे

दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election 2020) के लिए आज वोटिंग हो गई है. वोटिंग की रफ़्तार काफी धीमी रही. 6 बजे तक करीब 55 प्रतिशत वोटिंग ही हो पाई. वहीं, एग्ज़िट पोल में दिल्ली में किस की सरकार हो सकती है, इसका अनुमान भी सामने आ गया है. अधिकतर एग्ज़िट पोल में दावा किया गया है कि दिल्ली में एक बार फिर आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) की सरकार होगी. और अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) एक बार फिर दिल्ली के सीएम बनेंगे. अधिकतर सर्वे में कहा गया है कि आम आदमी पार्टी की जीत एकतरफा होगी.

Delhi Assembly Election 2020: तापसी ने दिल्ली में डाला वोट तो ‘परेशान’ हो गए ट्रोल, फिर मिला करारा जवाब

दिल्ली में 70 विधानसभा सीटें हैं. 2015 में हुए चुनाव में आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) को 70 में से बंपर 67 सीटें मिली थीं. आप ने बड़ी जीत हासिल की थी. बीजेपी (BJP) को सिर्फ 3 सीटें और कांग्रेस (Congress) को एक भी सीट नहीं मिली थी. 2015 के विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी 54.3 प्रतिशत, बीजेपी 32.3 प्रतिशत और कांग्रेस पार्टी मात्र 9.7 प्रतिशत वोट ही हासिल कर पाई थी. वोटिंग प्रतिशत की बात करें तो इस बार करीब 50 प्रतिशत वोटिंग हुई है. इससे पहले तीन बार के विधानसभा चुनावों में ये सबसे कम है. दिल्ली में 2008 में 57.58 प्रतिशत वोटिंग हुई थी. 2013 में 65.63 प्रतिशत वोटिंग हुई थी, जबकि 2015 में इससे अधिक 67.12 वोटिंग हुई थी.