Delhi Assembly Election 2020: दिल्ली चुनाव का प्रचार आखिरी चरण में है. ऐसे में सभी दलों ने अपनी ताकत झोंक दी है. पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने आज लगातार दूसरे दिन दिल्ली में सभा की. पीएम मोदी ने द्वारका में जनसभा को सम्बोधित करते हुए अरविंद केजरीवाल पर जमकर निशाना साधा.

पीएम मोदी ने कहा कि दिल्ली के लोगों ने देखा है कि आप सरकार (Aam Aadmi Party) कैसे घृणा की राजनीति करती है. यही लोग हैं जिन्होंने सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाए, ऐसे लोगों को सजा मिलनी चाहिए. पीएम मोदी ने कहा कि दिल्ली सरकार नफरत फैलाती है. दिल्ली को इससे मुक्ति चाहिए. सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाने वालों को सजा मिलनी चाहिए.

पीएम मोदी ने आयुष्मान भारत योजना (Ayushman Bharat Yojna) लागू नहीं करने के लिए आप पर निशाना साधा और पूछा कि अगर दिल्ली निवासी शहर के बाहर बीमार पड़ जाते हैं तो क्या ‘मोहल्ला क्लीनिक’ (Mohalla Clinic) काम करेंगे. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि दिल्ली सरकार ने पिछले पांच वर्षों में केंद्र सरकार की कई योजनाओं को लागू करने से मना कर दिया. चुनावी रैली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा-दिल्ली को दोष देने वाली नहीं, दिशा देने वाली सरकार चाहिए.

केजरीवाल की चुनौती, ‘BJP कल 1 बजे तक CM कैंडिडेट घोषित करे, मैं बहस के लिए यहीं बैठा मिलूंगा’

पीएम मोदी ने ये भी कहा कि वोटिंग से पहले और चार दिन पहले बीजेपी के पक्ष में ऐसा माहौल कई लोगों की नींद उड़ा रहा है. कल पूर्वी दिल्ली में और आज यहां द्वारका में, ये साफ़ हो गया है कि 11 फरवरी को क्या परिणाम आने वाले हैं. दिल्ली चुनाव दशक का पहला चुनाव है. विकास की दिशा में आगे बढ़ने के लिए ये अहम चुनाव है. पीएम मोदी ने केंद्र सरकार की कई योजनाएं गिनाते हुए कहा कि दिल्ली में जो सरकार है वह गरीबों से इतनी नफरत कैसे कर सकती है. केंद्र की कई योजनाओं को लागू नहीं होने दिया. लोगों को लाभ नहीं मिल पाया.

मोदी ने कहा- दिल्ली को ऐसी सरकार की जरूरत नहीं है जो दुश्मनों को हम पर हमला करने का मौका दे. दिल्ली के लोग कहते हैं कि देश बदल गया है, अब दिल्ली बदलने का समय है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सरकार ने जितने घर बनवाए हैं वे श्रीलंका की कुल जनसंख्या से भी ज्यादा है. उन्होंने कहा कि अमेरिका की जनसंख्या से भी ज्यादा गरीबों के लिए बैंक खाते खोले हैं. पीएम मोदी ने एक दिन पहले कड़कड़डूमा में रैली की थी. इस दौरान उन्होंने शाहीन बाग़ को संयोग नहीं एक प्रयोग बताया था.