Delhi-Assembly-Election-Results-2015

६:३० का अपडेट: आम आदमी पार्टी ने दिल्ली के विधानसभा चुनावो में अद्भुत प्रदर्शन करते हुए सबको चौका दिया। केजरीवाल जिनपर पूरी बीजेपी टूट पडी थी उन्होंने भारतीय जनता पार्टी को चारो खाने चीत कर दिया। आम आदमी पार्टी ने वहा ६७ सीटें जीती। भारतीय जनता पार्टी वहा ३ सीटो तक ही सीमित रह गयी तो वाही कांग्रेस खाता भी नहीं खोल पायी।

शाम ५ बजे का अपडेट: दिल्ली के दंगल में भारतीय जनता पार्टी के बड़े  सूरमाओं को ढेर करने वाली आम आदमी पार्टी ने बेहद अद्भुत प्रदर्शन करते हुए सभी को चौका दिया हैं। आपने ७०  सीटों वाली दिल्ली विधानसभा में अबतक ६४ सीटों पर जीत दर्ज की हैं। भारतीय जनता पार्टी ने ३ सीटें जीती हैं।

शाम ४ बजे का अपडेट: दिल्ली का मैदान जीत चुके अरविन्द केजरीवाल शनिवार यानी १४ फरवरी को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। आपको बता दे की केजरीवाल की आम आदमी पार्टी ने दिल्ली में अबतक ५९ सीटें अपने नाम  किया हैं। पार्टी अब भी ८ सीटों पर आगे चल रही हैं। वहा नेता विपक्ष  के लिए भारतीय जनता पार्टी अपात्र हैं।

दोपहर ३ बजे का उपडेट: देश की राजधानी में आज आम आदमी ने वह करिश्मा कर दिखाया जिसकी शायद ही किसी ने उम्मीद की होगी। अन्ना आंदोलन से उभरी आम आदमी पार्टी ने वहा ५० सीटों पर जीत हासिल की वही वह अब भी १७ सीटों पर आगे चल रही हैं। दिल्ली में भारत की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस नेस्तोनाबूद होगई तो वाही भारतीय जनता पार्टी को भी केंद्र में सरकार के बावजूद दिल्ली से खाली हाथ लौटना पड़ा।

सात महीनो पहले दिल्ली की सभी सातों सीटो पर जीत दर्ज करने वाली बीजेपी की इतनी करारी हार से पार्टी आलाकमान भी सकते में है। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने वैसे तो अब तक कुछ नहीं कहा है मगर किरण बेदी ने हार की पूरी ज़िम्मेवारी ली हैं।

१:३० बजे का अपडेट: दिल्ली में आज जनता ने बड़ा उलटफेर देखा। वहा बीजेपी और कांग्रेस के मुख्यमंत्री पद के प्रत्याशियों को मायूसी ही हाथ लगी तो वही अरविंद केजरीवाल ने बड़ी जीत दर्ज की। भाजप की किरण बेदी और कांग्रेस के अजय माकन को वहा लोगो ने सिरे से नकार दिया।

आप ने दिल्ली में १७ सीटों पर जीत दर्ज की और वह अब भी ५० सीटो पर आगे चल रही हैं।

१ बजे का अपडेट: आम आदमी पार्टी ने दिल्ली विधानसभा चुनावो में अपनी झाड़ू फेरा दी और विधानसभा में से विपक्ष को साफ़ कर दिया। आप ने वहा ९ सीटों पर जीत दर्ज कर ली हैं और ५७ सीटो पर आगे चल रही हैं। बीजेपी और कांग्रेस को जनता ने पूरी तरह नकार दिया। इस बीच किरण बेदी ने अपनी हार स्वीकार कर ली हैं और पूरी ज़िम्मेदारी अपने सर पर ली हैं।

१२:१५ बजे का अपडेट: दिल्ली विधानसभा चुनावो में आप स्थिति बिलकुल साफ़ होगई हैं। राजधानी में आप सरकार बनाने जारही हैं। वहा आप को ६५ तो भारतीय जनता पार्टी को ५ सीटें मिलती नज़र आरही है। कांग्रेस तो खाता भी नही खोल पायी हैं। यह इतिहास में कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी की सबसे बुरी हार हैं।

११ बजे का अपडेट: दिल्ली के दंगल में अब साफ़ होगया हैं की दिल्ली के मुख्यमंत्री के गद्दी पर अरविंद केजरीवाल विराजमान होंगे। आम आदमी पार्टी को ६६ तो भारतीय जनता पार्टी को ३ जगहों पर बढ़त मिलती नज़र आरही हैं। इन रुझानों दिल्ली में कांग्रेस का का पूरा सफाया होता नज़र आरहा हैं। वहा कांग्रेस खाता भी खोलने में नाकामयाब साबित हो।

१०:३० बजे का उपडेट: आम आदमी पार्टी ने दिल्ली विधानसभा चुनावो में बेहद अद्भुत प्रदर्शन कर सभी को चौका दिया हैं। ७० सीटो वाली विधानसभा में आप ६२ सीटों पर इस समय आगे चल रही हैं। वही भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस की बुरी तरह हार हुई हैं। बीजेपी ०७ सीटों पर आगे हैं वही कांग्रेस खाता भी नहीं खोल पायी हैं। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अरविन्द केजरीवाल को फोन कर उन्हें बधाई दी हैं।

१० बजे का उपडेट: ५ साल केजरीवाल यह नारा अब देश की राजधानी में बुलंद होता जारहा हैं। दिल्ली विधानसभा चुनावो में आम आदमी पार्टी अपने ४९ दिनों के चुनाव परिणामो को पीछे छोड़ एक बड़ी जीत की ओर आगे बढ़ रही हैं। आम आदमी पार्टी इस वक्त ६० सीटों पर आगे चल रही हैं। देश की दोनों पारम्परिक पार्टी कांग्रेस और बीजेपी को जनता ने पूरी तरह नकार दिया हैं।

०९:३० बजे का उपडेट: राजधानी के चुनावी दंगल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पार्टी पिछड़ती नज़र आरही हैं। वहा आम आदमी के हिमायती अरविन्द केजरीवाल मुख्यमंत्री बनते नज़र आरहे हैं। उनकी पार्टी इस समय ५४ सीटों पर आगे हैं वही भारतीय जनता पार्टी १२ सीटो पर आगे चल रही हैं। कांग्रेस उम्मीद के मुताबिक़ सिर्फ १ सीट पर आगे है। बीजेपी की मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार किरण बेदी और कांग्रेस के कद्दावर नेता अजय माकन पीछे च रहे हैं।

०९:०० बजे का उपडेट: दिल्ली विधानसभा चुनावो की स्थिति साफ़ होती नज़र आरही हैं। अब यह तस्वीर साफ़ होती जारही है की दिल्ली के तख़्त पर अरविंद केजरीवाल ही विराजमान होंगे। ९ बजे तक आम आदमी पार्टी को २९, भारतीय जनता पार्टी को ११ तो कांग्रेस ५ जगहों पर आगे चल रही हैं। आप के सभी प्रमुख उम्मीदवार इस समय मज़बूत स्थिति में हैं।

०८:४५ का अपडेट: दिल्ली विधानसभा चुनावों के शुरुवाती रुझानों में आम आदमी पार्टी बीजेपी से आगे नज़र आरही हैं। आम आदमी पार्टी ११ तो बीजेपी ९ जगहों पर आगे हैं। कांग्रेस को २ जगहों पर बढ़त मिली हैं। उल्लेखनीय बात यह हैं की राष्ट्रपति की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ग्रेटर कैलाश से पीछे चल रही है। वहा से बीएसपी का उम्मीदवार आगे चल रही हैं

८:३० का अपडेट: दिल्ली के दंगल में शुरुवाती रुझानों के मुताबिक़ आम आदमी पार्टी, भारतीय जनता पार्टी से आगे नज़र आरही हैं। आम आदमी पार्टी को ७ तो भारतीय जनता पार्टी को ६ जगहों पर बढ़त मिलती नज़र आरही हैं। इन रुझानों में कांग्रेस के लिए खुश खबरी हैं उनके २ प्रत्याशी अभी आगे चल रही हैं।
बीजेपी की मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार किरण बेदी कृष्णानगर से आगे चल रही हैं

शुरुवाती रुझानों में भारतीय जनता पार्टी और आम आदमी पार्टी बराबरी पर चल रहे हैं। दोनों ही पार्टी २-२ सीटों पर आगे चल रही हैं। सोमनाथ भारती और राखी बिड़ला आगे चल रही है। आपको बता दे की ४९ दिन की सरकार के दौरान यह दोनों भी मंत्री थे।

दिल्ली विधानसभा चुनावो में रुझान आने शुरू होगये हैं। पहला रुझान भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में आया हैं। यह रुझान है रोहिणी विधानसभा क्षेत्र का जहा से भारतीय जनता पार्टी के नेता विजेंद्र गुप्ता आम आदमी पार्टी से आगे चल रहे हैं। आपको बता दे की पिछले चुनावो में यहाँ आप को जीते मिली थी।

भारत के दिल यानी दिल्ली के तख़्त के लिए शनिवार को हुए चुनावो के बाद आज मतगणना शुरू होगई हैं। २०१४ लोकसभा चुनावो के बाद इस चुनाव को सबसे बड़े चुनाव के तौर पर देखा जारहा हैं। इन चुनावो में एक ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दम पर मैदान में उतरी भारतीय जनता पार्टी हैं तो दूसरी ओर हैं अरविन्द केजरीवाल की आम आदमी पार्टी जो बीजेपी को उनके उरूज पर कड़ी टक्कर दे रही हैं।

दिल्ली में जैसी चुनाव ख़त्म हुए उसी शाम को आये एग्जिट पोल के नतीजों में ज़्यादातर चैनलों ने आम आदमी पार्टी को आगे बताया हैं जिससे बीजेपी के तंबू में खलबली मच गयी हैं। पार्टी ने आनन फानन में आपात्कालीन बैठक बुलाकर इन चुनावो की समीक्षा की। कई सियासी विशेषज्ञ के विश्लेषण में यह बात सामने आयी हैं की बीजेपी ने इन चुनावो में अरविंद केजरीवाल को टारगेट कर के बड़ी गलती की हैं। प्रधानमंत्री से लेकर सभी नेताओं ने केजरीवाल पर कड़े हमले किये जिसके कारण पार्टी पिछड़ती नज़र आरही हैं।

दूसरी ओर केजरीवाल ने महीनो पहले से चुनावो की तैयारी शुरू कर दी थी। उनके कार्यकर्ताओं ने घर घर जाकर पार्टी का प्रचार किया जिसका सकारात्मक परिणाम होता नज़र आरहा हैं।

कुछ ही घंटो में यह स्पष्ट होजायेगा की दिल्ली के तख़्त पर कौन विराजमान होता हैं। क्या वहा आम आदमी की बात करने वाले केजरीवाल की ताजपोशी होती हैं या किरण बेदी की।

उत्तरी दिल्ली के बुराड़ी सीट पर सबसे अधिक 18 उम्मीदवार हैं, जबकि दक्षिणी दिल्ली के अंबेडकर नगर सीट से सबसे कम चार उम्मीदवार हैं।

गौरतलब है कि 2013 के विधानसभा चुनाव में भाजपा 31 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी, जबकि पहली बार चुनाव में उतरी आप को 28 सीटें मिली थीं। कांग्रेस को सिर्फ आठ सीटों पर संतोष करना पड़ा था।

त्रिशंकु विधानसभा के बीच आप ने कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाई थी, लेकिन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सदन में दिल्ली जन लोकपाल विधेयक पारित नहीं किए जाने के कारण 49वें दिन 14 फरवरी, 2014 को अपने पद से इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद पिछले साल 17 फरवरी से यहां राष्ट्रपति शासन लागू है।