Delhi Assembly Elections 2020/Address Change in Voter Card: दिल्ली में 8 फरवरी को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होने वाले हैं. चुनाव होने में अब सिर्फ एक महीने का ही वक्त बाकी रह गया है. इस बीच सबसे अहम बात यह है कि क्या आपका नाम वोटिंग लिस्ट में है या नहीं. इसके लिए सबसे पहले आपको वोटिंग लिस्ट की जांच करनी होगी तभी आप चुनाव में मतदान दे पाएंगे. अगर आप किसी दूसरे राज्य के रहने वाले हैं और शिक्षा या फिर नौकरी की वजह से दिल्ली में आकर रह रहे हैं तो आप अपने वोटर कार्ड के पते में बदलाव करा सकते हैं. इसके लिए आपको एक आवेदन करना होगा. इससे पहले आपको बता दें कि अगर आप वोटर कार्ड में अपने पते में बदलाव करवाना चाहते हैं तो आपके पास वैध दस्तावेजों का होना बहुत जरूरी है. इससे आप दिल्ली विधानसभा चुनावों में मतदान कर सकेंगे. सबसे पहले आप अपना नाम वोटिंग लिस्ट में जांचे. अगर आपका नाम लिस्ट में शामिल नहीं है तो आपको नेशनल वोटर सर्विस पोर्टल (एनवीएसपी) पर जाकर अपने वोटर कार्ड के पते को बदलवाने के लिए आवेदन कर सकते हैं.

वोटर कार्ड में अपना पता कैसे बदलें

इसके लिए सबसे पहले आपको नेशनल वोटर सर्विस पोर्टल पर जाना होगा. इसके बाद यहां आप फॉर्म्स पर क्लिक कर आगे बढ़ जाएं. वेबसाइट पर अगर पहले से आपकी आईडी है तो ठीक नहीं तो क्रिएट ऐन अकाउंट पर क्लिक कर अपनी आईडी बना लें. इसके बाद आपके फोन नंबर या फिर दिए गए ईमेल पर सत्यापन के लिए ओटीपी भेजा जाएगा जिसे आप सब्मिट कर आगे बढ़ जाएं. OTP सब्मिट करने के बाद आप कैप्चा भर दें. ओटीपी सत्यापित होने के बाद, ईपीआईसी नंबर दर्ज करें जो आपके वोटर आईडी कार्ड पर है. यह नंबर वोटर आईडी कार्ड में फोटो के सामने होता है. हर मतदाता के लिए केवल ईपीआईसी नंबर जनरेट होता है. इससे आप अपने मेल आईडी को लिंक कर एक पासवर्ड बना लें. इस प्रक्रिया को पूरी करने के बाद आप रजिस्टर बटन पर क्लिक कर आग बढ़ जाएं.

अगले पेज में आपको संबंधित कॉलम में विधानसभा/संसदीय निर्वाचन क्षेत्र, राज्य और जिला जैसे विवरणों की जानकारी देनी होगी. पते में परिवर्तन के लिए आपको “किसी अन्य निर्वाचन क्षेत्र से स्थानांतरण के कारण” विकल्प का चयन करना होगा. इसके बाद फॉर्म में आपको अंग्रेजी और उस क्षेत्र विशेष क्षेत्रीय भाषा दोनों में नाम, उपनाम, आयु, संबंध नाम आदि जैसी जानकारी देनी होगी. हालांकि दिल्ली विधानसभा चुनाव में के लिए आप यह कर रहे हैं इसलिए दिल्ली में हिंदी भाषा को मान्यता दें और दिए गए जानकारी में हिंदी भाषा का इस्तेमाल करें. इसके बाद आपके सामने एक अन्य फॉर्म खुल जाएगा. यहां आपको कई सारे दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी. एक-एक कर मांगे गए सभी दस्तावेजों को यहां अपलोड कर दें.

इसके बाद आपसे निजी जानकारी ली जाएगी. इसे भी आप सही-सही भर दें. इसके बाद आप अपने परमानेंट पते और स्थानीय पते की जानकारी देकर आगे बढ़ जाएं. इसके बाद आपको अपनी तस्वीर को फार्म पर अपलोड करना होगा. इस प्रक्रिया के पूरी होने के बाद वेबसाइट की तरफ से डिक्लियरेशन का ऑप्शन दिखाई देगा. यहां आपसे पूछा जाएगा कि आपके द्वारा दी गई जानकारी सही है. इस प्रक्रिया को पूरी कर आप आगे बढ़ जाएं. इसके बाद अगले पेज में आप कैप्चा भरकर सब्मिट कर दें. इसके बाद आपको एक रेफरेंस आईडी यानी एक तरह का अंकों वाला नंबर दिया जाएगा. इसे आप नोटकर रख लें. इसके जरिए आप अपने वोटर कार्ड के स्टेट्स के बारे में पता लगा सकते हैं.

अहम दस्तावेज

यहां आपको आपको बस उम्र का प्रमाण (जन्म प्रमाण पत्र- किसी भी कक्षा की मार्कशीट, भारतीय पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस और यूआईडीएआई द्वारा जारी किया गया आधार कार्ड) और पते का प्रमाण देना होगा. यहां आप रेंट एग्रीमेंट पेपर को भी प्रमाण के रूप में सबमिट कर सकते हैं. पते के प्रमाण के लिए आप अन्य वैध दस्तावेज जैसे- ड्राइविंग लाइसेंस, भारतीय पासपोर्ट, राशन कार्ड, आयकर डिटेल्स, रेंट एग्रीमेंट, पानी का बिल, टेलीफोन बिल, बैंक/किसान/डाकघर पासबुक, गैस कनेक्शन बिल और बिजली बिल का इस्तेमाल कर सकते हैं.