नई दिल्ली। दिल्ली के चीफ सेक्रेटरी अंशु प्रकाश से कथित मारपीट के मामले के बाद बने हालातों के मद्देनजर सीएम अरविंद केजरीवाल आज उपराज्यपाल अनिल बैजल से मिलने पहुंचे. मुलाकात के बाद एलजी ने अंशु प्रकाश पर हुए कथित हमले को दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए कहा कि लोकतांत्रिक समाज में हिंसा के लिए कोई स्थान नहीं है और सरकार को अपने कर्मचारियों का विश्वास बनाने के लिए कदम उठाना चाहिए. इससे पहले दिल्ली पुलिस की एक टीम मुख्यमंत्री के आवास पर पहुंची और आम आदमी पार्टी के विधायकों द्वारा मुख्य सचिव पर किए गए कथित हमले के सिलसिले में वहां लगाए गए सीसीटीव कैमरे के हार्ड डिस्क जब्त किए. घटना के बाद दिल्ली सरकार के नौकरशाहों ने मंत्रियों की बैठकों का बहिष्कार कर दिया है. बैजल ने कहा कि अगर सरकार के कर्मचारी अपमानित और असुरक्षित महसूस करेंगे तो कोई भी सरकार जनता से किए गए वादों को पूरा नहीं कर सकती.

इस मुलाकात के बाद डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने बताया कि उपराज्यपाल ने कहा है कि वह अधिकारियों से कहेंगे कि वे बैठक में आएं और मंत्रियों के साथ मिलकर काम करें. इस दौरान सीएम ने एलजी से कहा कि आगे इस तरह की अप्रिय घटना नहीं होगी. सिसोदिया ने कहा, हमने एलजी से कहा कि इन दो-तीन दिनों में किस तरह अधिकारी बैठक के लिए नहीं पहुंचे, ना ही कोई फोन कॉल रिसीव किया. इसका नतीजा ये रहा कि कई बैठकें रद्द कर देनी पड़ीं. इसलिए हमने एलजी को एक लिस्ट सौंपी है. हमने उनसे गुजारिश की है कि वह अधिकारियों से बात करें.

केजरीवाल तक पहुंची आंच

मुख्य सचिव से मारपीट मामला लगातार तूल पकड़ता जा रहा है. इसकी आंच अब सीएम केजरीवाल तक पहुंच चुकी है. इस मामले की जांच के सिलसिले में आज दिल्ली पुलिस केजरीवाल के आवास पहुंच गई. पुलिस 19 फरवरी की रात को हुई घटना के सीसीटीवी फुटेज की जांच के सिलसिले में यहां पहुंची. यहां पुलिस ने पाया कि सीसीटीवी में 40 मिनट देरी की सेटिंग की गई है.

पढ़ें- चीफ सेक्रेटरी विवाद पर AAP विधायक के बिगड़े बोल- ‘ऐसे अफसरों को पीटना ही चाहिए’

वहीं, इस मामले में गिरफ्तार आप विधायक अमानतुल्लाह खान और प्रकाश जारवाल को आज भी कोर्ट से राहत नहीं मिली. दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने दोनों की जमानत याचिका खारिज करते हुए इनकी न्यायिक हिरासत बरकरार रखी. यानि दोनों विधायकों को 14 दिन के लिए तिहाड़ जेल में ही रहना होगा. हालांकि कोर्ट ने दोनों को पुलिस रिमांड की अर्जी ठुकरा दी.

मुख्य सचिव के मुताबिक उनके साथ सीएम आवास में आप के विधायकों ने मारपीट की थी. उन्हें रात 12 बजे यहां मीटिंग के लिए बुलाया गया था. 20 फरवरी को उन्होंने इसकी शिकायत पुलिस में दर्ज कराई. इसी रात प्रकाश जारवाल को गिरफ्तार कर लिया गया जबकि पुलिस ने अमानतुल्लाह को अगले दिन 21 फरवरी को अरेस्ट किया. इस बीच इस घटना से गुस्साए आईएएस एसोसिशन ने काम का बहिष्कार करने का ऐलान कर दिया. अधिकारियों का कहना है कि जब तक आरोपियों पर ठोस कार्रवाई नहीं होती, काम नहीं करेंगे. इसी मुद्दे पर आज केजरीवाल ने एलजी अनिल बैजल से मुलाकात कर उनसे दखल देने की मांग की.