नई दिल्ली. यूपीए सरकार में प्रधानमंत्री रहे डॉ.मनमोहन सिंह और कांग्रेस के खिलाफ राजनीति कर के चर्चा में आए और दिल्ली के सीएम की कुर्सी तक पहुंचे अरविंद केजरीवाल ने आज कांग्रेस नेता व पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की बड़ाई करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पीएम नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए कहा कि लोगों को मनमोहन सिंह जैसे ‘शिक्षित प्रधानमंत्री’ की कमी खल रही है. लोगों को लग रहा है कि देश के प्रधानमंत्री पद पर बैठे व्यक्ति को पढ़ा-लिखा होना चाहिए. वर्ष 2013 में हुए दिल्ली विधानसभा और इसके एक साल बाद 2014 के लोकसभा चुनाव में तत्कालीन मनमोहन सिंह सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाले केजरीवाल ने आज रुपए की गिरती दर को लेकर ट्वीट करते हुए ये बात कही है. इससे पहले सीएम अरविंद केजरीवाल ने कैराना लोकसभा सीट के उपचुनाव को लेकर भी मोदी सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि लोकसभा और विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के परिणाम मोदी सरकार के प्रति लोगों के आक्रोश को दिखाते हैं. Also Read - लद्दाख गतिरोध: रक्षा मंत्री के बाद पीएम मोदी ने की अजीत डोभाल, CDS जनरल रावत व तीनों सेना प्रमुखों से मुलाकात

विदेशी पत्रिका के लेख के साथ किया ट्वीट
सीएम अरविंद केजरीवाल ने आज सुबह विदेशी पत्रिका वॉल स्ट्रीट जर्नल के लेख के साथ ट्वीट करते हुए पीएम मोदी के ऊपर तंज किया है. उन्होंने पत्रिका के लेख के साथ ट्वीट करते हुए लिखा है, ‘लोगों को डॉ. मनमोहन सिंह जैसे शिक्षित प्रधानमंत्री की कमी खल रही है. लोगों को लग रहा है कि प्रधानमंत्री तो पढ़ा लिखा ही होना चाहिए.’ बता दें कि पीएम मोदी की शिक्षा को लेकर सीएम अरविंद केजरीवाल ने पहली बार बयान नहीं दिया है. इससे पहले भी वे पीएम की शैक्षणिक योग्यता पर सवाल उठा चुके हैं. केजरीवाल और उनकी पार्टी के कई सदस्य पहले भी पीए नरेंद्र मोदी की शैक्षणिक योग्यताओं एवं उनकी डिग्री की प्रमाणिकता पर सवाल उठा चुके हैं. पीएम की शिक्षा पर टिप्पणी करने के अलावा केजरीवाल ने दिल्ली की समस्याओं को लेकर भी अपनी बात उठाई है. उन्होंने इसके लिए पीएम मोदी पर प्रहार करने के बजाए उनकी पार्टी, भाजपा पर हमला बोला है. केजरीवाल ने राष्ट्रीय राजधानी में जारी जलसंकट को लेकर ‘गंदी राजनीति’ करने का भी आरोप लगाया. उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘भाजपा दिल्लीवासियों के पानी के साथ गंदी राजनीति कर रही है. दिल्ली को 22 सालों से यह पानी मिल रहा था. अचानक हरियाणा की भाजपा सरकार ने इस आपूर्ति में भारी कमी कर दी. ऐसा क्यों? कृपया अपनी गंदी राजनीति से लोगों को परेशान ना करें.’

कैराना उपचुनाव परिणाम पर भी किया हमला
लोकसभा और विधानसभा की सीटों के लिए हुए उपचुनावों में भाजपा को मिली करारी हार पर भी मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि यह मोदी सरकार के खिलाफ आक्रोश को दर्शाता है. आम आदमी पार्टी के नेता ने कहा कि अब तक लोग पूछ रहे थे कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का विकल्प कौन है लेकिन परिणाम बताता है कि वे अब उन्हें हटाना चाहते हैं. उन्होंने ट्वीट किया, ‘आज का परिणाम दर्शाता है कि मोदी सरकार के खिलाफ काफी गुस्सा है. अब तक लोग पूछ रहे थे कि विकल्प क्या है. आज लोग कह रहे हैं कि मोदी जी एक विकल्प नहीं हैं. पहले उन्हें हटाओ.’ बता दें कि भाजपा को उत्तर प्रदेश में कैराना और महाराष्ट्र में भंडारा-गोंडिया लोकसभा उपचुनाव में शिकस्त का सामना करना पड़ा है. हालांकि, पार्टी महाराष्ट्र में पालघर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव को जीतने में सफल रही है. बता दें कि इससे पहले दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों पर भी केजरीवाल ने मोदी सरकार पर हमले किए थे. सीबीआई द्वारा जैन के आवास की तलाशी लेने के मामले पर केजरीवाल ने निजी अस्पतालों के लिए जैन द्वारा घोषित प्रस्तावित नए मानदंडों से जोड़ा. उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा उन्हें रद्द करना चाहती है लेकिन आप उस नीति पर आगे बढ़ेगी. सीबीआई के छापे पर उन्होंने ट्वीट किया था, ‘प्रधानमंत्री मोदी क्या चाहते हैं ?’

(इनपुट – एजेंसी)