नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली में फिलहाल गहमा गहमी का माहौल बना हुआ है. उत्तरपूर्वी दिल्ली के कुछ इलाकों में भड़के दंगे से पूरा देश स्तब्ध है. पिछले सप्ताह हुए दंगों के संबंध में करीब 1300 लोगों को अब तक गिरफ्तार किया गया है. इसी विषय को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की. Also Read - Coronavirus Latest News: दिल्ली में पहली बार एक दिन में कोरोना संक्रमण के 1000 से अधिक मामले

बैठक के दौरान दोनों नेताओं ने हिंसा प्रभावित उत्तर पूर्व दिल्ली की स्थिति के बारे में चर्चा की. हाल ही में दिल्ली विधानसभा चुनाव में जीत पर आम आदमी पार्टी के लगातार तीसरी बार सत्ता में आने के बाद प्रधानमंत्री मोदी से केजरीवाल की यह पहली मुलाकात है. केजरीवाल ने संसद भवन स्थित प्रधानमंत्री कार्यालय में मोदी से मुलाकात की जो करीब आधे घंटे चली. बैठक के बाद केजरीवाल ने संवाददाताओं से कहा कि पिछले कुछ दिनों में दिल्ली पुलिस जिस प्रकार से सक्रिय है, उसी प्रकार से हिंसा के दौरान सजग रहती तो जान के नुकसान को रोका जा सकता था. Also Read - Delhi Coronavirus Update: लॉकडाउन में ढील के बाद बढ़े केस, सीएम बोले, चिंता की बात नहीं, मामले 13 हजार के पार

इस बैठक को दिल्ली हिंसा की पृष्ठभूमि में काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है जिनमें करीब 42 लोगों की मौत हो गई और 200 लोग घायल हो गये. केजरीवाल ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में दिल्ली पुलिस ने अफवाहों पर लगाम लगाने में तत्परता से काम किया है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने भी इस बात पर सहमति व्यक्त की कि दिल्ली में ऐसी हिंसक घटनाएं नहीं दोहरायी जानी चाहिए.

यह पूछे जाने पर कि क्या बैठक में भाजपा नेताओं के विवादास्पद बयानों के बारे में भी चर्चा हुई, केजरीवाल ने कहा कि इस पर विशेष रूप से कोई चर्चा नहीं हुई. दिल्ली के मुख्यमंत्री ने मोदी से हिंसा में शामिल लोगों पर कड़ी कार्रवाई करने का आग्रह किया चाहे वे कितने भी प्रभावशाली क्यों न हों. गौरतलब है कि केजरीवाल ने गत 25 फरवरी को गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी.