नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जियो इंस्टीट्यूट को ‘उत्कृष्ट संस्थान’ का दर्जा दिए जाने पर आज केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यह सरकार ‘अंबानी की जेब’ में है. भाजपा के पूर्व नेता यशवंत सिन्हा की ओर से इस मुद्दे पर किए गए ट्वीट के जवाब में केजरीवाल ने ट्वीट किया कि ‘इससे पहले कांग्रेस सरकार अंबानी की जेब में थी, अब मोदी सरकार अंबानी की जेब में है. बदला क्या है?’

बता दें कि यशवंत सिन्हा ने एक ट्वीट में कहा था, ‘जियो इंस्टीट्यूट की अभी स्थापना भी नहीं हुई. यह वजूद में नहीं है. फिर भी सरकार ने इसे उत्कृष्ट का दर्जा दे दिया. यह एम. अंबानी होने की अहमियत है.’ उन्होंने कहा कि सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र में आईआईटी-दिल्ली, आईआईटी-बंबई और बेंगलूर स्थित भारतीय विज्ञान संस्थान जबकि निजी क्षेत्र में मणिपाल उच्च शिक्षा अकादमी (माहे), बिट्स पिलानी और जियो इंस्टीट्यूट को उत्कृष्ट संस्थान का दर्जा दिया है.

अभी स्थापित भी नहीं हुए जियो इंस्टीट्यूट को उत्कृष्ट संस्थान का दर्जा दिए जाने के सरकार के कदम की विभिन्न वर्गों में आलोचना हुई है. कई लोगों ने चयन प्रक्रिया और इसके पीछे की मंशा पर सवाल उठाए हैं. केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने कल साफ किया था कि यह दर्जा शर्तों के साथ दिया गया. बता दें कि इस बात की काफी चर्चा है कि जिओ यूनिवर्सिटी शुरू होने से पहले ही कैसे उसे उत्कृष्ट संस्थान का दर्जा दे दिया गया. सोशल मीडिया पर इसे लेकर इसका जमकर मखौल उड़ाया जा रहा है. वहीं, सरकार ने इसे लेकर सफाई भी दी है.