नई दिल्लीः पूरे उत्तर भारत में इस समय कड़ाके की ठंड पड रही है. शीत लहर ने पूरे जनजीवन को थाम दिया है. शनिवार की सुबह दिल्ली में सीजन का सबसे कम तापमान दर्ज किया किया गया. मौसम का आलम यह था कि कई जगहों पर विजिबिलिटी पूरी तरह से शून्य थी. यमुना नदी के पास वालों पर कोहरे की मार बहुत अधिक रही. कोहरे के कारण लोगों को गाड़िया चलाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. दिल्ली में शनिवार को ठंड का क्या आलम था इस बात से ही समझ सकते हैं कि पिछले 118 सा रिकॉर्ड टूट गया और सबसे कम तापमान दर्ज किया गया.

समाचार एजेंसी के अनुसार राजधानी दिल्ली में सुबह 6 बजे न्यूनतम तापमान 2.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. मौसम विभाग के अनुमान के अनुसार अभी कुछ दिनों तक उत्तर भारतीयों को इस कड़ाके की ठंड से राहत नहीं मिल पाएगी.

आपको बदा दें कि हरियाणा, दिल्ली राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और बिहार सहित देश में उत्तर, मध्य और पूर्व के अधिकांश इलाकों में पिछले दो दिनों से शीत लहर के कारण प्रचंड सर्दी और घने कोहरे का प्रकोप जारी है.

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में दिसंबर की सर्दी का यह आलम है कि यह 1901 के बाद दूसरी बार ऐसा हो सकता है जब साल का आखिरी महीना इतना सर्द रहा हो. मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली में तापमान और भी गिर सकता है. दिल्ली में लगातार 15वें दिन कड़ाके की सर्दी पड़ रही है और इससे पहले 1997 में ऐसा हुआ था जब ऐसे लगातार 17 दिन कड़ाके की सर्दी पड़ी थी.