Corona Virus in Delhi: दक्षिण दिल्ली स्थित राधा स्वामी सत्संग व्यास परिसर में 10 हजार बेड का कोरोना अस्पताल बनाया जा सकता है. रविवार को दिल्ली के उप राज्यपाल अनिल बैजल ने राधा स्वामी सत्संग परिसर का दौरा किया और वहां स्थापित की जाने वाली सुविधाओं की तकनीकी जानकारी दी. कोरोना रोगियों के उपचार के साथ-साथ परिसर के एक हिस्से में डॉक्टरों के आवास की व्यवस्था की जाएगी. राधा स्वामी सत्संग परिसर में 1700 फीट की लंबाई व सात सौ फीट चौड़ाई के कई बड़े हॉल बनाए जाएंगे. प्रत्येक हाल में कोरोना के पचास रोगियों का उपचार होगा व उनके लिए बेड की व्यवस्था की जाएगी. राजधानी का यह सबसे बड़ा कोरोना अस्पताल बनेगा. Also Read - राहत: दिल्ली में कोरोना की स्थिति में सुधार हुआ, मरीजों के ठीक होने की दर 76 प्रतिशत पहुंची

राज निवास के वरिष्ठ के वरिष्ठ अधिकारियों के मुताबिक, सभी तकनीकी पहलुओं की जांच की जा रही है. सत्संग व्यास से जुड़े पदाधिकारियों ने कहा, “यह तीस जून तक बनकर तैयार हो जाएगा. यह टेंट से निर्मित होगा. इसमें पर्याप्त रोशनी व पंखे की व्यवस्था होगी. साथ ही प्रत्येक पंडाल में कूलर लगाया जाएगा.” दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने अगले एक हफ्ते में कोरोना संकट से निपटने के लिए 20 हजार अतिरिक्त बेड की व्यवस्था करने की योजना बनाई है. इसके लिए दिल्ली के 40 छोटे-बड़े होटलों में करीब 4 हजार कोविड बेड बनाए जाएंगे. Also Read - Corona Virus in India: इन 8 राज्यों में हैं 90 प्रतिशत मरीज, देश में क्या है कोरोना वायरस का हाल, जानें

दिल्ली में कोरोना रोगियों के उपचार के लिए अब छोटे नर्सिग होम और क्लीनिक को भी कोरोना स्पेशल नर्सिग होम में तब्दील किया जा रहा है. दिल्ली सरकार इसके जरिए राजधानी में 5000 अतिरिक्त कोरोना बेड उपलब्ध कराना चाहती है. योजना के तहत 10 से 49 बिस्तर की क्षमता वाले नर्सिग होम को ‘कोविड-19 नर्सिग होम’ बनाया जा रहा है. Also Read - वैक्सीन न बनी तो भारत में आएगी तबाही, 2021 की सर्दियों में हर दिन आएंगे कोरोना के 2. 87 लाख केस, रिसर्च में दावा

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, “दिल्ली सरकार के इस निर्णय से 5000 से अधिक बेड करोना के लिए उपलब्ध हो जाएंगे. अगले कुछ दिनों में हमारे अधिकारी हर नर्सिग होम के मालिक से बात करके उनकी समस्याओं को भी दूर करेंगे.”