नई दिल्ली: दिल्ली की एक कोर्ट ने सोमवार को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा को विदेश जाने की अनुमति दे दी. लेकिन वह ब्रिटेन नहीं जा सकेंगे. कोर्ट ने प्रवर्तन निदेशालय की ओर से इस संबंध में जवाब दाखिल करने के बाद वाड्रा की याचिका पर सुनवाई की और उन्हें विदेश जाने की इजाजत दी दी. अदालत ने उन्हें 25 लाख रुपए की सावधि जमा की रसीद, विदेश में उनका संपर्क ब्योरा और वहां ठहरने का पता सौंपने का निर्देश दिया.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के पति वाड्रा ने बीते शनिवार को दो हफ्तों के लिए स्पेन जाने की इजाजत के लिए अदालत में एक याचिका दाखिल की थी. अदालत ने इसके बाद इस पर ईडी से जवाब दाखिल करने को कहा था. वाड्रा ने शनिवार को दिल्ली की एक अदालत का रुख करते हुए इलाज कराने और कारोबार के उद्देश्य से विदेश जाने की अनुमति मांगी थी.

बता दें कि वाड्रा लंदन में 12, ब्रायनस्टोन स्क्वायर में 19 लाख पाउंड की संपत्ति खरीदने से संबंधित धन शोधन के आरोपों का सामना कर रहे हैं.

बीते 7 दिसंबर को वाड्रा की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता केटीएस तुलसी ने विशेष न्यायाधीश अरविंद कुमार को बताया था कि उनका मुवक्किल 9 दिसंबर से दो हफ्तों के लिए स्पेन जाना चाहता है. विशेष न्यायाधीश अरविंद कुमार ने ईडी को 9 दिसंबर तक जवाब देने का निर्देश दिया. उसी दिन अदालत इस मामले पर सुनवाई करेगी. ईडी ने जवाब देने के लिए समय मांगा.

– जून में अदालत ने वाड्रा को स्वास्थ्य वजहों से छह सप्ताहों के लिए अमेरिका और नीदरलैंड जाने की अनुमति दी थी
– कोर्ट ने वाड्रा को ब्रिटेन जाने की मंजूरी नहीं दी थी
– ईडी ने आशंका जताई थी कि आरोपी को अगर ब्रिटेन जाने दिया गया तो वह सबूत नष्ट कर सकते हैं

बता दें वाड्रा लंदन में 12, ब्रायनस्टोन स्क्वायर में 19 लाख पाउंड की संपत्ति खरीदने से संबंधित धन शोधन के आरोपों का सामना कर रहे हैं. वह फिलहाल अग्रिम जमानत पर हैं. कोर्ट ने वाड्रा को सशर्त अग्रिम जमानत देते हुए एक अप्रैल को बिना पूर्व अनुमति के देश न छोड़ने के निर्देश दिए थे.