नई दिल्ली: दिल्ली की एक अदालत ने विदेशी मुद्रा विनियमन कानून (फेरा) के उल्लंघन से संबंधित मामले में सुनवाई करते हुए शराब कारोबारी विजय माल्या की बेंगलुरू स्थित संपत्ति कुर्क करने का आदेश दिया है. Also Read - 5 अक्टूबर को दिन में 2 बजे विजय माल्या को कोर्टरूम लेकर आए सरकार: सुप्रीम कोर्ट

एक भी संपत्ति कुर्क नहीं कर सकी है पुलिस

प्रत्यर्पण निदेशालय (ईडी) के विशेष लोक अभियोजक एन के मट्टा और वकील संवेदना वर्मा द्वारा पहले का आदेश लागू करने के लिए और अधिक समय का अनुरोध किए जाने पर मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट दीपक शेरावत ने ये ताजा निर्देश दिए. बेंगलुरू पुलिस ने इससे पहले अदालत को सूचित किया था कि उसने माल्या से संबंधित 159 संपत्तियों की पहचान की है. लेकिन वह इनमें से एक भी संपत्ति कुर्क नहीं कर पाई है.

राहुल गांधी को सिखाया गया है कि झूठ बोलो, ऊंची आवाज में बोलो: प्रकाश जावडेकर

मामले में अदालत चार जनवरी को माल्या को भगोड़ा घोषित कर चुकी है क्योंकि उन्होंने उसके समन का जवाब नहीं दिया. अदालत ने मामले में आठ मई को बेंगलुरू पुलिस आयुक्त को माल्या की संपत्ति कुर्क करने का आदेश दिया था और इस पर रिपोर्ट मांगी थी. अदालत ने कहा कि बार-बार समन भेजने के बावजूद माल्या पेश नहीं हुए. इसके बाद अदालत ने फेरा के उल्लंघन से संबंधित मामले में उसके समन का जवाब नहीं देने के लिये माल्या को भगोड़ा घोषित कर दिया. पिछले साल 12 अप्रैल को शराब कारोबारी के खिलाफ बेमियादी गैर जमानती वारंट जारी किया गया था.

आम्रपाली ग्रुप केस: सुप्रीम कोर्ट ने तीन डॉयरेक्टर के खिलाफ जारी किया अवमानना का नोटिस

(इनपुट भाषा)