नई दिल्लीः 2012 में दिसंबर में हुए एक रेप मामले में दिल्ली की कोर्ट आज फैसला सुनाएगी. हम निर्भया नहीं बल्की निर्भया कांड के चाह महीने बाद हुए हैरान कर देने वाली घटना की बात कर रहे हैं. जिसमें पांच वर्षीय एक बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार हुआ. इस मामले में 2 लोग आरोपी हैं.

पांच साल की गुड़िया के साथ बहुत ही बर्बरता के साथ रेप किया गया था. डॉक्टरी जांच में बाद में गुड़िया के शरीर से मोमबत्ती और कांच के टुकड़े मिले थे. इसे जानकर समझा जा सकता है कि उस मासूम ने कितनी तड़प और दर्द सहन की होगी.

गुड़िया का 15 अप्रैल 2013 को अपहरण हुआ था और 17 अप्रैल की सुबह वह घर के पास से ही मिली थी. गुड़िया को अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था जहां कई दिनों तक उनकी हालत नाजुक बनी हुई थी.

मथुराः बिजली विभाग के इंजीनियर की गोली मारकर हत्या, कर्मचारियों ने शुरू की हड़ताल

मामले से जुड़े एक वकील के अनुसार अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश नरेश कुमार मल्होत्रा ​​ने बुधवार को फैसला टाल दिया था क्योंकि निर्णय लंबा होने के कारण तैयार नहीं हो सका था. इस मामले में दिल्ली पुलिस ने 24 मई, 2013 को दो आरोपियों मनोज शाह और प्रदीप कुमार के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया था और उसी साल 11 जुलाई को अदालत ने उनके खिलाफ आरोप तय किए थे. अब सभी लोगों की निगाहें आज कोर्ट के फैसले पर हैं.